विश्व
पुष्टि - 33,306,022
मृत्यु - 1,002,389
ठीक- 24,637,458
भारत
पुष्टि - 6,074,702
मृत्यु - 95,574
ठीक- 5,016,520
रूस
पुष्टि - 1,151,438
मृत्यु - 20,324
ठीक- 943,218
पेरू
पुष्टि - 805,302
मृत्यु - 32,262
ठीक- 664,490
ब्राज़िल
पुष्टि - 4,732,309
मृत्यु - 141,776
ठीक- 4,060,088
अमेरिका
पुष्टि - 7,321,343
मृत्यु - 209,453
ठीक- 4,560,456

गुजरात में कंपनी की कर्मचारियों को हिदायत- गुटखा-बीड़ी की बुरी आदतें नहीं छोड़ सकते तो नौकरी छोड़ दें

राजकोट। गुजरात में एक कंपनी ने अपने कर्मचारियों को ​हिदायत दी है कि वे गुटखा, बीड़ी-सिगरेट वाली बुरी आदतें छोड़ें और काम करें। यदि वे अपनी इस लत को नहीं छोड़ सकते, तो नौकरी छोड़ दें। कंपनी का रूल है कि, सभी कर्मचारियों समय-समय पर मेडिकल चैकअप कराए। यह कंपनी है, राजकोट की पर्व मेटल ग्रुप ऑफ कंपनी। पर्व मेटल ग्रुप ऑफ कंपनी ने पिछले साल जून में अभियान चलाया था कि वो अपने कर्मचारियों को बुरी आदतों से मुक्त करेगी।

कंपनी के मैनेजिंग पार्टनर सहदेव सिंह झाला के मुताबिक, पर्व मेटल ग्रुप ऑफ कंपनी में 150 कारीगरों और अन्य स्टाफ से यही अनुरोध किया गया है कि, वे नशे की लत से दूर रहें। कर्मचारियों की तंबाकू, गुटखा, बीड़ी-सिगरेट जैसी लतें छुड़ाने के​ लिए ही कंपनी ने पिछले साल जून में एक अभियान चलाया था। बकौल झाला, यह कंपनी अपने कर्मचारियों के स्वास्थ्य के प्रति हमेशा सजग रहती है।’

झाला कहते हैं, दुनियाभर में मंदी का दौर चल रहा है। हमने मंदी का सकारात्मक इस्तेमाल करने का फैसला लिया है, और हमें अपने इस काम में कामयाबी भी मिली है। ज्यादातर कर्मचारी यह मान गए हैं कि, वे नशे की लत और व्यसन त्यागेंगे। हमने देखा कि बहुत सारी कंपनियां बंद हो रही हैं, तो हमने तय कि हमारे कर्मचारियों को नौकरी या व्यसन में से किसी एक को चुनना ही होगा।

केंद्र सरकार की एक रिपोर्ट के अनुसार, गुजरात में बेरोजगारी में सबसे तेज इजाफा हुआ है। देश के बड़े राज्यों में गुजरात ऐसा है, जहां बेरोजगारी छह साल में दस गुना बढ़ी। वर्ष 2017-18 में राष्ट्रीय स्तर पर बेरोजगारी दर 6.1 फीसदी थी जबकि 2011-12 में यह 2.2 फीसदी थी। यानी छह सालों में यह तीन गुना बढ़ गई है। यह खुलासा राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (NSSO) की एक रिपोर्ट में किया गया था। इस रिपोर्ट के मुताबिक 2017-18 में देश के 11 राज्यों में बेरोजगारी की दर राष्ट्रीय औसत से अधिक थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.