विश्व
पुष्टि - 99,325,288
मृत्यु - 2,130,366
ठीक- 71,371,003
भारत
पुष्टि - 10,655,435
मृत्यु - 153,376
ठीक- 10,316,786
रूस
पुष्टि - 3,698,273
मृत्यु - 68,971
ठीक- 3,109,315
फ्रांस
पुष्टि - 3,035,181
मृत्यु - 72,877
ठीक- 216,725
ब्राज़िल
पुष्टि - 8,816,254
मृत्यु - 216,475
ठीक- 7,628,438
अमेरिका
पुष्टि - 25,566,789
मृत्यु - 427,635
ठीक- 15,330,949

अरे मुख्यमंत्री केजरीवाल जी आपने #FarmersBill2020 दिल्ली में लागू कर दिया तो ये बता तो दो सबको..झूठे ही आपके MLA भाग दौड़ कर रहें है : BJP सांसद मनोज तिवारी

न्यूज़ डेस्क। दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी ने अरविंद केजरीवाल के दोहरे चरित्र को उजागर किया है। एक तरफ जहां दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी के नेता किसान आंदोलन के समर्थन में लगे हैं। वही दूसरी तरफ मनोज तिवारी ने खुलासा किया है कि आम आदमी पार्टी की सरकार ने केंद्र सरकार द्वारा पारित कराये गए तीन कृषि कानूनों में से एक कानून को 23 नवंबर को ही लागू कर दिया है। उन्होंने ट्वीट कर दिल्ली राजपत्र के दस्तावेज की तस्वीर को शेयर भी किया।

इस दस्तावेज के मुताबिक संविधान के अनुच्छेद-123 के खंड (1) द्वारा प्रदत्त शक्तियों के प्रयोग में, भारत के राष्ट्रपति ने ‘कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सुविधा)’ नामक अध्यादेश, 2020 प्रख्यापित किया है, जिसे विधि एवं न्याय मंत्रालय, भारत सरकार का राजपत्र असाधारण भाग-2, खंड-1 में प्रकाशित किया गया है। आगे लिखा है कि यह किसी भी राज्य की APMC अधिनियम या अन्य कानून के लागू होने के समय प्रवृत्त या प्रलेख के प्रभाव में आने वाले समय में लागू होगा।

सांसद मनोज तिवारी ने इस पत्र को सबूत के तौर पर शेयर किया है। वही दूसरी तरफ अरविंद केजरीवाल किसानों को गुमराह करने के लिए कृषि कानून को किसान विरोधी बता रहे हैं। साथ ही केंद्र सरकार पर इसे वापस लेने के लिए दबाव भी बना रहे हैं। आपको याद होगा कि राज्यसभा में AAP के सांसद संजय सिंह ने इस बिल का विरोध भी किया था। अपने ट्वीट में सांसद मनोज तिवारी अरविंद केजरीवाल से पूछा कि जब आपने इस कानून को लागू कर दिया है तो आपके विधायक विरोध क्यों कर रहे हैं?

गौरतलब है कि धीरे धीरे ‘किसान आंदोलन’ लिबरल गैंग के हवाले चला गया है। शाहीन बाग के तर्ज पर ही आंदोलन को तैयार किया जा रहा है। आंदोलन में शामिल लोग हिंसक बातें कर रहे हैं। यही वजह है कि इस आंदोलन की तुलना अब लोग शाहीन बाग से करने लगे हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.