विश्व
पुष्टि - 60,720,993
मृत्यु - 1,426,841
ठीक- 42,032,104
भारत
पुष्टि - 9,266,705
मृत्यु - 135,261
ठीक- 8,679,138
रूस
पुष्टि - 2,162,503
मृत्यु - 37,538
ठीक- 1,660,419
फ्रांस
पुष्टि - 2,170,097
मृत्यु - 50,618
ठीक- 156,552
ब्राज़िल
पुष्टि - 6,166,898
मृत्यु - 170,799
ठीक- 5,512,847
अमेरिका
पुष्टि - 13,137,962
मृत्यु - 268,219
ठीक- 7,805,280

कर्नाटक की सीनियर IPS अफसर D रूपा ने ट्विटर से लिया ब्रेक, पटाखा बैन को लेकर आई थीं चर्चा में, हुई थी ट्रोल

नई दिल्ली। कर्नाटक की प्रमुख सचिव गृह और IPS डी रूपा ने ट्विटर से ब्रेक ले लिया है। पटाखा बैन को लेकर डी रूपा ने एक ट्वीट किया था जिसके बाद वो ट्रोल हो गईं थीं। जिसके बाद अब रूपा ने ट्विटर से ब्रेक लेने का फैसला किया है। रूपा ने लिखा है कि सरकारी कर्मी होने की वजह से ट्रोल्स को उनकी भाषा में जवाब नहीं दे सकती हूं।

रूपा की ओर से पटाखा को लेकर किए गए ट्वीट का मामला शनिवार को तब और गरमा गया जब पत्रकार मोहनदास पाई के ने सीनियर IPS के खिलाफ एक आर्टिकल लिखा। शनिवार को रूपा ने ट्वीट करते हुए कहा है कि मेरे ऊपर दबाव बनाने के लिए मेरे खिलाफ हैशटैग चलाए गए। सब अच्छे से जानते थे कि मैं बतौर सरकारी कर्मचारी ट्रोल्स को उनकी भाषा में जवाब नहीं दे सकती। आप बताइए ट्विटर पर ज्यादा पावरफुल कौन है?

ट्विटर से ब्रेक लेने से पहले रूपा ने एक और ट्वीट किया और कहा कि ब्रेक लेने से पहले मैं उन सिलेब्रिटीज के लिए ये वीडियो शेयर कर रही हूं जो मेरे बारे में बिना कुछ जाने बोलते हैं। यह हिंदी में है, साउथ इंडियन होने के बावजूद मैंने दूरदर्शन देखकर सीखा था।

दरअसल, दिवाली से पहले पटाखा बैन को लेकर रूपा की @TrueIndology नाम के ट्विटर यूजर से बहस हो गई थी। डी रूपा का मानना था कि पटाखे दिवाली से जुड़ी रीति-रिवाजों का हिस्सा नहीं रहे और आतिशबाजी का जन्म 15वीं शताब्दी में हुआ, इसलिए इस पर बैन को सकारात्मक रूप में लेना चाहिए। वहीं, ट्विटर यूजर ने रूपा के दावे का विरोध किया और उदाहरण देते हुए यह बताने का प्रयास किया कि आतिशबाजी दिवाली का हिस्सा रहा है। दोनों के बीच में बहस इस हद तक पहुंच गया कि ट्विटर ने @TrueIndology को सस्पेंड कर दिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.