विश्व
पुष्टि - 115,302,022
मृत्यु - 2,560,638
ठीक- 91,127,337
भारत
पुष्टि - 11,139,516
मृत्यु - 157,385
ठीक- 10,812,044
रूस
पुष्टि - 4,268,215
मृत्यु - 86,896
ठीक- 3,838,040
फ्रांस
पुष्टि - 3,783,528
मृत्यु - 87,220
ठीक- 259,893
ब्राज़िल
पुष्टि - 10,647,845
मृत्यु - 257,562
ठीक- 9,527,173
अमेरिका
पुष्टि - 29,370,705
मृत्यु - 529,214
ठीक- 19,905,322

कोवैक्सीन टीकाकरण मामले पर डॉ. हर्षवर्धन की छत्तीसगढ़ के हेल्थ मिनिस्टर को हिदायत, कहा- सनसनी न फैलाएं

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंह देव द्वारा भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का टीकाकरण रोकने के मुद्दे पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने पलटवार किया है। हर्षवर्धन ने उन्हें पत्र लिखकर कहा है कि वे छत्तीसगढ़ राज्य में बहुत कम टीकाकरण होने के मसले से ध्यान हटाने के लिए बेमतलब सनसनी न फैलाएं।

देव ने गुरुवार को केंद्र के लिए लिखे पत्र को संलग्न करते हुए ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षणों के पूरा न होने और वैक्सीन की शीशियों पर एक्सपायरी डेट न लिखी होने पर चिंता जताई थी। उन्होंने केंद्र सरकार से ये भी अनुरोध किया था कि जब तक इन मुद्दों को हल नहीं किया जाता है, तब तक के लिए वो छत्तीसगढ़ में कोवैक्सीन की सप्लाई रोक दें।

इसके जबाव में डॉ. हर्षवर्धन ने अपने पत्र में देव को विस्तार से जानकारी देते हुए कहा है कि राज्यों को भेजे गए सभी टीके सुरक्षित और प्रतिरक्षात्मक हैं और इनका उपयोग तेजी से किया जाना चाहिए।

ये कांग्रेस शासित राज्य कोवैक्सीन को लेकर तब से ही आपत्ति जता रहा है, जब 3 जनवरी को कोवैक्सीन को देश में इमरजेंसी यूज ऑर्थराइजेशन की मंजूरी (ईयूए) मिली थी। इस वैक्सीन का अभी तीसरे चरण का परीक्षण पूरा होना बाकी है और इसका उपयोग देशव्यापी कोविड टीकाकरण अभियान में क्लीनिकल ट्रायल के तौर पर किया जा रहा है।

केंद्रीय मंत्री ने ये भी कहा कि टीकाकरण के मामले में राज्य बहुत पीछे है। उन्होंने कहा कि “जबकि छत्तीसगढ़ में 69.87 प्रतिशत हेल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीन का पहला डोज मिल चुका है, फिर भी अब तक राज्य के 2,09,512 फ्रंटलाइन वर्कर्स में से केवल 9.55 प्रतिशत को ही पहला वैक्सीन डोज दिया गया है।

छत्तीसगढ़ में टीकों की पर्याप्त मात्रा में सप्लाई की गई है। लिहाजा टीएस सिंह देव जी बिना मुद्दों के सनसनी फैलाने की बजाय अपने राज्य में टीकाकरण अभियान की गति बढ़ाने पर ध्यान दें।”

केंद्रीय मंत्री ने शीशियों पर एक्सपायरी डेट न होने के दावे को भी खारिज कर दिया। उन्होंने लेबल लगी हुई शीशी का फोटो संलग्न करते हुए लिखा, “कोवैक्सीन की शीशी पर एक्सपायरी डेट न होने की चिंता भी निराधार है।”

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.