विश्व
पुष्टि - 786,987
मृत्यु - 37,843
ठीक- 165,933
भारत
पुष्टि - 1,251
मृत्यु - 32
ठीक- 102
फ्रांस
पुष्टि - 44,550
मृत्यु - 3,024
ठीक- 7,927
ईरान
पुष्टि - 41,495
मृत्यु - 2,757
ठीक- 13,911
इटली
पुष्टि - 101,739
मृत्यु - 11,591
ठीक- 14,620
अमेरिका
पुष्टि - 164,278
मृत्यु - 3,170
ठीक- 5,507

रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल ने ली तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ, भाजपा विधायक भी पहुंचे समारोह में

नई दिल्ली। अरविंद केजरीवाल दिल्ली के रामलीला मैदान में लगातार तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उन्हें उपराज्यपाल अनिल बैजल ने शपथ दिलाई। इसके साथ ही, मनीष सिसोदिया ने भी पद और गोपनीयता की शपथ ली। मनीष सिसोदिया पिछली सरकार में उप-मुख्यमंत्री और दिल्ली के शिक्षा मंत्री थे।

उसके बाद सत्येन्द्र जैन ने मंत्री पद की शपथ ली। सत्येन्द्र जैन पिछली सरकार में स्वास्थ्य मंत्री थी। पिछली सरकार के दौरान स्वास्थ्य के क्षेत्र में मोहल्ला क्लीनिक काफी चर्चा में रहा था। केजरीवाल ने शपथ ग्रहण से ठीक पहले ट्वीट करते हुए दिल्ली के लोगों से कहा कि अपने बेटे को आशीर्वाद देने के लिए रामलीला मैदान जरूर आइये।

शपथ ग्रहण समारोह में उन्होंने सभी दिल्लीवासियों को निमंत्रण देने के साथ-साथ 50 लोगों को विशेष तौर पर बुलाया है। इनमें सफाईकर्मी, मेट्रो चालक, किसान आदि शामिल हैं। आम आदमी पार्टी ने दावा किया था कि कुल एक लाख लोग इस शपथ ग्रहण समारोह में जुटेंगे।

शपथ लेने के साथ ही अरविंद केजरीवाल दिल्ली की राजनीति में इतिहास रच दिया। वह लगातार तीसरी बार शपथ लेने वाले दूसरे मुख्यमंत्री बन गए। इससे पहले कांग्रेस से शीला दीक्षित यह कारनामा कर चुकीं हैं। यह केजरीवाल का करिश्माई नेतृत्व ही है, जो आम आदमी पार्टी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा को 8 के मुकाबले 62 सीटों से हराकर तीसरी बार दिल्ली में सरकार बनाने जा रही है।

केजरीवाल के साथ 6 कैबिनेट मंत्रियो ने भी शपथ ली है। नए मंत्रिमंडल में मनीष सिसोदिया, सतेंद्र जैन, गोपाल राय, कैलाश गहलोत, इमरान हुसैन, राजेंद्र पाल गौतम को जगह मिली है। ये लोग पुराने मंत्रीमंडल में भी शामिल थे।

केजरीवाल दिल्ली के पहले और एकमात्र मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपने शपथ ग्रहण समारोहों के लिए ऐतिहासिक रामलीला मैदान को प्राथमिकता दी है, जबकि उनके पूर्ववर्तियों ने राज निवास में शपथ ली थी। राष्ट्रीय राजधानी में यह जगह वास्तव में केजरीवाल के दिल के करीब है क्योंकि इसी जगह से 2011 में केजरीवाल अन्ना हजारे के इंडिया अगेंस्ट करप्शन आंदोलन में शामिल हुए थे। बाद में यह आंदोलन 2012 में केजरीवाल की राजनीति का प्रवेश द्वार बन गया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *