विश्व
पुष्टि - 17,757,513
मृत्यु - 682,998
ठीक- 11,160,201
भारत
पुष्टि - 1,697,054
मृत्यु - 36,551
ठीक- 1,095,647
रूस
पुष्टि - 839,981
मृत्यु - 13,963
ठीक- 638,410
दक्षिण अफ्रीका
पुष्टि - 493,183
मृत्यु - 8,005
ठीक- 326,171
ब्राज़िल
पुष्टि - 2,666,298
मृत्यु - 92,568
ठीक- 1,884,051
अमेरिका
पुष्टि - 4,705,889
मृत्यु - 156,747
ठीक- 2,327,572

इसरो ने लॉन्च किया रीसैट-2BR1 सैटेलाइट, सीमा सुरक्षा मिशन में मिलेगी मदद, भारत ने कुल 319 विदेशी उपग्रह किए प्रक्षेपित

श्रीहरिकोटा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) इसरो ने चंद्रयान के बाद आज फिर सफल प्रयास किया हैं। ISRO ने 11 दिसंबर 2019 को दोपहर 3.25 बजे राडार इमेजिंग सैटेलाइट रीसैट-2बीआर1 (RiSAT-2BR1) को लॉंच किया। इसरो की तरफ से राडार इमेजिंग सैटेलाइट रीसैट-2बीआर1 की सफल लॉन्चिंग की गई। राडार इमेजिंग सैटेलाइट रीसैट-2बीआर1 की सफल लॉन्चिंग ने देश की सुरक्षा को और मजबूत किया हैं। इस सफल लॉन्चिंग के बाद देश की सीमा सुरक्षा पर नजर सरखना और आसान होने वाला हैं। इस सैटेलाइट की खास बात ये है कि अपना काम हर अवस्था मे करेगी चाहे मौसम खराब हो या फिर अंधेरा हो। इससे पहले खराब मौसम के कारण सैटेलाइट काम करना बंद कर देती थी लेकिन अब मौसम कितना भी खराब हो और आसमान में कितने भी बादल छाए हो अब ये सैटेलाइट बीना रोक के काम करेगी।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने बुधवार को भारत के रडार इमेजिंग पृथ्वी निगरानी उपग्रह रिसैट-2बीआर1 और नौ विदेशी उपग्रहों का प्रक्षेपण किया। यह प्रक्षेपण पीएसएलवी-सी48 रॉकेट के जरिए यहां सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से किया गया। सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के प्रथम लॉन्चपैड से अपराह्न तीन बजकर 25 मिनट पर 44.4 मीटर लंबे रॉकेट ने उड़ान भरी। यह पीएसएलवी की 50वीं उड़ान है और यह उसका श्रीहरिकोटा से 75 वां मिशन है।

कृषि, वन एवं आपदा प्रबंधन में सहायता उपलब्ध कराने के मकसद से तैयार किये गये इस उपग्रह का वजन 628 किलोग्राम है।इसरो सूत्रों ने बताया कि यह सैन्य उद्देश्यों के लिए भी काम करेगा। प्रक्षेपित किये गये नौ उपग्रहों में से छह उपग्रह अमेरिका और इटली, जापान और इजराइल का एक-एक उपग्रह शामिल है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.