वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बढे प्याज के दाम पर गरमाई सियासत पर पी चिदंबरम को दिलाया ये 7 साल पुराना बयान, जानें क्या कहा…..

नई दिल्‍ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बिना नाम लिए पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम पर निशाना साधते हुए प्याज और लहसुन न खाने वाले बयान पर हो रही आलोचना पर सीतारमण ने कहा कि ये आलोचना अर्थव्यवस्था की है और ये सरकार लगातार बता रही है कि क्या कदम उठाए गए हैं, लेकिन एक आरोप लगाना कि ये सरकार Elitist (उच्छिष्टवर्गवाद) है तो इसका जवाब मैं देती हूं। इस दौरान निर्मला सीतारमण ने पी. चिदंबरम का सात साल पुराना बयान याद दिलाया।

निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को राज्यसभा में कहा कि पूर्व वित्त मंत्री ने कहा था कि जब अर्बन मिडिल क्लास लोग 15 रुपये का मिनरल वॉटर का बोतल खरीद सकते हैं और आइसक्रीम के लिए 20 रुपये दे सकते है तो वे क्यों कीमतों में उछाल का हल्ला करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि उज्ज्वला योजना, जनधन योजना, आयुष्मान योजना, PM आवास योजना क्या है। क्या ये Elitist के लिए है।

उन्होंने आगे कहा कि मैं पूर्व वित्त मंत्री के एक बयान की याद दिलाती हूं। जब कीमतों में उछाल का मुद्दा था। मैं ये 2012 की बात कर रही हूं। महंगाई दर नियंत्रण से बाहर था। मुझ पर Elitist का आरोप लगाने वाले ने तब क्या बयान दिया था। ज्ञात हो कि पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि जो सरकार कम प्याज खाने को कहती है, उसे चले जाना चाहिए।
तिहाड़ जेल से रिहा होने के बाद गुरुवार को संसद भवन पहुंचे पी चिदंबरम ने कहा कि जो सरकार लोगों को कम प्याज और लहसुन खाने की सलाह देती है, उसे चले जाना चाहिए। अर्थव्यवस्था के मामले में ये सरकार पूरी तरह से फेल हुई है। उन्होंने आगे कहा कि अगर सीतारमण प्याज नहीं खाती हैं तो क्या खाती हैं? क्या वह एवोकाडो खाती हैं?

गौरतलब है कि लोकसभा की कार्यवाही के दौरान बुधवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जब भाषण दे रही थीं तो उन्होंने प्याज को लेकर कमेंट किया था। कांग्रेस नेता की ओर से प्याज का मुद्दा उठाने पर निर्मला सीतारमण ने जवाब दिया था कि मैं इतना लहुसन, प्याज नहीं खाती हूं जी। मैं ऐसे परिवार से आती हूं जहां अनियन से मतलब नहीं रखते।

Please follow and like us:
Twitter20
Facebook0
Follow by Email

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.