विश्व
पुष्टि - 17,757,513
मृत्यु - 682,998
ठीक- 11,160,201
भारत
पुष्टि - 1,697,054
मृत्यु - 36,551
ठीक- 1,095,647
रूस
पुष्टि - 839,981
मृत्यु - 13,963
ठीक- 638,410
दक्षिण अफ्रीका
पुष्टि - 493,183
मृत्यु - 8,005
ठीक- 326,171
ब्राज़िल
पुष्टि - 2,666,298
मृत्यु - 92,568
ठीक- 1,884,051
अमेरिका
पुष्टि - 4,705,889
मृत्यु - 156,747
ठीक- 2,327,572

DU में ‘रातोंरात’ लगी भगत सिंह, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और वीर सावरकर की प्रतिमाएं

नई दिल्ली। दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) के नॉर्थ कैम्पस में मंगलवार सुबह भारत के आजादी की लड़ाई में हिस्सा लेने वाले स्वतंत्रता सेनानियों वीर सावरकर, सरदार भगत सिंह और नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमाएं लगी देखी गईं। ये प्रतिमाएं DU में आर्ट फैकल्टी के बाहर ABVP के नेतृत्व वाले डूसू अध्यक्ष शक्ति सिंह द्वारा स्थापित की गई हैं। कई छात्रों ने कहा कि यहां ये प्रतिमाएं रातोंरात लगाई गई हैं।

हालांकि, इस बारे में डूसू अध्यक्ष शक्ति सिंह ने कहा कि ये प्रतिमाएं मंगलवार सुबह 6 बजे ही लगाई गई हैं। उन्होंने कहा, “हम पिछले साल नवंबर से DU प्रशासन को पत्र लिखकर प्रतिमाएं लगाने की अनुमति मांग रहे थे। लेकिन, इस पर कोई जवाब नहीं मिला। इसलिए, हमें अपने स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान के लिए इस तरह का कदम उठाना पड़ा।”

छात्र नेता ने कहा कि उन्होंने वीर सावरकर और भगत सिंह जैसे स्वतंत्रता सेनानियों के खिलाफ फैलाए गए झूठ को मिटाने के लिए ही ये प्रतिमाएं लगाई हैं।

छात्र नेता ने कहा, “हम चाहते हैं कि युवाओं को उन स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान के बारे में पता होना चाहिए, जिन्होंने हमारी स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी।” उन्होंने कहा कि प्रतिमाओं की स्थापना के लिए धनराशि डीयू के छात्रों द्वारा जुटाई गई थी।

डूसू के सदस्यों ने कहा कि यह कदम इसलिए जरूरी था क्योंकि स्वतंत्रता संग्राम के दौरान इन तीनों ने भले ही अलग-अलग रास्तों का इस्तेमाल किया हो, लेकिन इनका लक्ष्य एक ही था।”

लॉ फैकल्टी के पूर्व छात्र और ABVP के सदस्य पीयूष ठाकुर ने कहा, “हमारे विश्वविद्यालय में इन स्वतंत्रता सेनानियों के लिए कोई अन्य प्रतिष्ठान नहीं थे। हम गलत को सही करने की कोशिश कर रहे हैं। यही कारण है कि हमने इन प्रतिमाओं को स्थापित किया है।” पिछले सप्ताह, डूसू ने छात्र संघ कार्यालय का नाम सावरकर के नाम पर रखने की मांग की थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.