विश्व
पुष्टि - 18,701,672
मृत्यु - 704,365
ठीक- 11,915,331
भारत
पुष्टि - 1,906,613
मृत्यु - 39,820
ठीक- 1,281,660
रूस
पुष्टि - 861,423
मृत्यु - 14,351
ठीक- 661,471
दक्षिण अफ्रीका
पुष्टि - 521,318
मृत्यु - 8,884
ठीक- 363,751
ब्राज़िल
पुष्टि - 2,808,076
मृत्यु - 96,096
ठीक- 1,970,767
अमेरिका
पुष्टि - 4,918,420
मृत्यु - 160,290
ठीक- 2,481,680

लॉकडाउन में एक गरीब महिला ने लगाई दुकान, कार्रवाई करने आए कलेक्टर ने फिर जो किया उस पर नहीं होगा आपको यकीन, देंखे…. (VIDEO)

रायपुर। कोरोना काल कोविड- 19 के लॉकडाउन (Lockdown) में जहां असंवेदनशीलता के कुछ मामले देखकर मन बोझिल हो जाता है तो वहीं कुछ ऐसे भी वाकये हैं जिन्हें देखकर बरबस ही होठों पर मुस्कान आ जाती है और लगता है कि इंसानियत अभी ज़िंदा है। सोशल मीडिया पर अक्सर ऐसे वीडियो वायरल होते हैं जिनका विषय काफी संवेदनशील होता है। इस समय लॉकडाउन का वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक सब्जी वाली ने लॉकडाउन के दिन दुकान लगाई है। कलेक्टर को जब पता चलता है तो वो सब्जी वाली से सारा सामान खरीदकर उसे घर रवाना कर देता है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा यह वीडियो दरअसल पुराना है। लेकिन @Varwandkar डॉ अजीत वरवंदकर कलेक्टर ने दया भाव के इस वीडियो को अपने ट्विटर पर शेयर किया है। इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि जब फूटपाथ पर सब्जी बेचने वाले ने लॉकडाउन का आदेश मानने से इनकार कर दिया तो कलेक्टर ने उसका सामान खुद ही खरीद लिया और सब्जी वाली को घर जाने को कहा। सत्ता केवल शक्ति का इस्तेमाल करने के लिए नहीं है बल्कि सहानुभूति के बारे में भी है। यह वाकई काबिले तारीफ है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यह मामला मई माह के दौरान लगे लॉकडाउन का है। छत्तीसगढ़ के दुर्ग में जब एक सब्जी की दुकान लगाने वाली महिला के इसलिए आदेश मानने से मना कर दिया क्योंकि यह दुकान ही उसकी रोजी रोटी का एकमात्र जरिया था, ऐसे में कलेक्टर ने उसकी मजबूरी समझकर उसकी सहायता की और बजाये कि सत्ता का अनुचित इस्तेमाल करने के सहानुभूति से उसकी सारी सब्जी खरीद ली और उसे घर जाने को कहा।

ट्विटर पर अफसर की नेकनीयती के इस वीडियो को अबतक 21 हजार से ज्यादा लोग लाइक कर चुके हैं और 5 हजार से भी ज्यादा लोगों ने इस वीडियो को शेयर किया है। इस वीडियो पर कुल 405 से ज्यादा कमेंट्स हैं। लोग अफसर की दरियादिली और सहानुभूति के लिए उनकी भरपूर तारीफ कर रहे हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.