विश्व
पुष्टि - 17,757,513
मृत्यु - 682,998
ठीक- 11,160,201
भारत
पुष्टि - 1,697,054
मृत्यु - 36,551
ठीक- 1,095,647
रूस
पुष्टि - 839,981
मृत्यु - 13,963
ठीक- 638,410
दक्षिण अफ्रीका
पुष्टि - 493,183
मृत्यु - 8,005
ठीक- 326,171
ब्राज़िल
पुष्टि - 2,666,298
मृत्यु - 92,568
ठीक- 1,884,051
अमेरिका
पुष्टि - 4,705,889
मृत्यु - 156,747
ठीक- 2,327,572

प.बंगाल मुर्शिदाबाद जाते हुए कैलाश विजयवर्गीय को मुस्लिमों की बड़ी भीड़ ने घेरा, ट्वीट कर प्रशासन से मदद की लगाई गुहार

कोलकोता। आज भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय बंगाल दौरे पर रहे, इस दौरान उन्होंने प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है। दरअसल पूरा मामला ऐसा घटित हुआ की मुर्शिदाबाद जाते हुए उन्हें नवग्राम के पास मुस्लिमों की भीड़ ने उन्हें घेर लिया। विजयवर्गीय ने ट्वीट किया,”मुर्शिदाबाद जाते हुए मुझे नवग्राम के पास मुस्लिमों की बड़ी भीड़ ने घेर लिया है। मेरी गाडी के दोनों तरफ भीड़ जमा है। प्रशासन कोई सुनवाई नहीं कर रहा! SP और DG भी फ़ोन नहीं उठा रहे! पश्चिम बंगाल में अराजक सरकार के रहते कुछ भी हो सकता है! यहाँ किसी की जान सुरक्षित नहीं है!”

पश्चिम बंगाल के प्रभारी भाजपा महासचिव में ममता सरकार पर आरोप लगाया कि राज्य में कानून व्यवस्था की हालत खराब है। विजयवर्गीय ने ट्वीट किया,” पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था की स्थिति इतनी बिगड़ चुकी है कि विपक्ष के नेताओं की जान सुरक्षित नहीं कही जा सकती! मुर्शिदाबाद जाते हुए नवग्राम के पास मेरी गाड़ी को हज़ारों मुस्लिमों ने घेर लिया है। अभी भी मैं भीड़ से घिरा हुआ हूँ।”

मुर्शिदाबाद जाते हुए नवग्राम के पास मुस्लिमों की भीड़ ने रिक्शा सामने अड़ाकर हमारा रास्ता रोक दिया। भीड़ की उग्रता देखकर लगता है कि इन्हें भड़काकर हमारे खिलाफ किया गया है। प्रशासन की लापरवाही इससे नजर आती है कि कोई फोन तक नहीं उठा रहा!

इससे पहले राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) और नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के तीखे विरोध पर पलटवार करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय कैलाश विजयवर्गीय ने तंज कसा था कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख बांग्लादेश की मुख्यमंत्री नहीं हैं। उन्होंने कहा, संघीय ढांचे में बनर्जी भला कैसे कह सकती हैं कि वह इस कानून (नागरिकता संशोधन विधेयक) को पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होने देंगी। वह पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री हैं, बांग्लादेश की नहीं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.