विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

दिल्ली एम्स (AIIMS) में लगी भयानक आग 5 वी मंजिल तक पहुंची, दमकल की 34 गाड़ियां आग बुझाने में लगीं, इमरजेंसी वार्ड बंद

नई दिल्ली। देश के नामी संस्थानों में शुमार दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) अस्पताल की एक इमारत में लगी भीषण आग तीसरी से होते हुए पांचवीं मंजिल तक पहुंच गई है। इस दौरान आग और फैलते धुंए को देखते हुए आनन-फानन में कई मरीजों को सुरक्षित जगहों पर शिफ्ट किया गया। बताया जा रहा है कि मरीजों को (AIIMS) के इमरजेंसी से सफदरजंग अस्‍पताल में शिफ्ट कर दिया गया है। वंही आग पहले (AIIMS) के टीचिंग ब्लॉक की एक बिल्डिंग की दूसरी और तीसरी मंजिल पर लगी थी, जो अब पांचवीं मंजिल तक पहुंच गई है। दमकल की 34 गाड़‍ियों की मदद से आग पर काफी हद तक काबू पा लिया गया था, लेकिन अब आग तीसरी से होते हुए पांचवीं मंजिल तक पहुंच गई है। किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। फायर ब्रिगेड की 34 गाड़ियां मौके पर हैं।

आग पहले एम्स के टीचिंग ब्लॉक की एक बिल्डिंग की दूसरी और तीसरी मंजिल पर लगी थी। फायर ब्रिगेड की 34 गाड़ियां मौके पर हैं। अधिकारियों ने बताया कि शाम 4.50 के पास उन्हें घटना के बारे में फोन आया। एक अग्निशमन अधिकारी ने कहा, आग बुझाने के लिए अग्निशमन की 34 गाड़ियों को लगाया गया।

सूत्रों का कहना है कि आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी। हालांकि आग में अभी तक किसी के घायल होने की कोई खबर नहीं है। आपातकालीन वार्ड के पास आग लगने के बाद एम्स की आपातकालीन लैब को बंद कर दिया गया है। ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर्स ने बताया कि इमरजेंसी डिपार्टमेंट में से मरीजों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट किया जा रहा है।

अग्निशमन सेवा के एक अधिकारी ने कहा कि उन्हें अस्पताल के पीसी और टीचिंग ब्लॉक में आग लगने के संबंध में शाम 4 बजकर 50 मिनट पर फोन आया और दमकल की 15 गाड़ियों को आग पर काबू पाने के लिए तत्काल मौके पर भेजा गया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.