विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

पाकिस्तान जितना नीचे गिरेगा, भारत उतना ही ऊपर उठेगा : UN प्रतिनिधि अकबरुद्दीन

संयुक्त राष्ट्र। UN संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने पाकिस्तान द्वारा लगातार कश्मीर मुद्दे का राग अलापे जाने पर कहा कि ‘वे जितना नीचे गिरेंगे, हम उतना ही ऊपर उठेंगे’। अगले सप्ताह संयुक्त राष्ट्र महासभा की उच्चस्तरीय बैठकों में पाकिस्तान के दुष्प्रचार का मुकाबला करने के लिए नई दिल्ली की रणनीति कुछ यही होगी। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि वह अपने कश्मीर अभियान को संयुक्त राष्ट्र में ले जाएंगे और उनके विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि जब वह अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी के बाद महासभा को संबोधित करेंगे तो वह जोरदार तरीके से अपनी बात रखेंगे।

अकबरुद्दीन ने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि यदि वे कश्मीर मुद्दे को लाते हैं, तो इसका हश्र कुछ हद तक वैसा ही होगा जैसा पिछले कुछ सालों में होता रहा है। उन्होंने कहा, “यह प्रत्येक देश का अपना मामला है कि वह वैश्विक मंचों पर किस रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज कराना चाहता है और वे जो करना चाहते हैं, वह उनकी मर्जी है।”

अकबरुद्दीन ने कहा, “हमने उन्हें अतीत में आतंकवाद को मुख्यधारा में लाते देखा है और अब वे नफरत फैलाने वाले भाषण को मुख्यधारा में लाना चाहते हैं। यह उनकी मर्जी है।” लेकिन उन्होंने कहा कि अगर वे ऐसा करते हैं तो उनका जहर उगलना ज्यादा दिन तक उनके काम नहीं आएगा।

भारत ने UNGA के लिए वैश्विक सहयोग के जो महत्वाकांक्षी कार्यक्रम तय किए हैं, उनका जिक्र करते हुए अकबरुद्दीन ने कहा, “वे जितना नीचे गिरेंगे, हम उतना ही ऊपर उठेंगे।” उम्मीद है कि मोदी 23 सितंबर को जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन में घोषणा करेंगे कि भारत जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए अपनी प्रतिबद्धता बढ़ाएगा। इस कार्यक्रम के तहत, भारत संयुक्त राष्ट्र में गांधी सोलर पार्क का उद्घाटन करेगा, जो मुख्यालय के लिए 50 किलोवाट हरित ऊर्जा उत्पन्न करेगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.