विश्व
पुष्टि - 221,140,621
मृत्यु - 4,575,780
ठीक- 197,635,720
भारत
पुष्टि - 32,988,673
मृत्यु - 440,567
ठीक- 32,138,092
महाराष्ट्र
पुष्टि - 64,82,117
मृत्यु - 1,37,707
ठीक- 62,88,851
केरल
पुष्टि - 41,81,137
मृत्यु - 21,422
ठीक- 39,09,096
कर्नाटक
पुष्टि - 29,54,047
मृत्यु - 37,401
ठीक- 28,98,874
तमिलनाडु
पुष्टि - 26,21,086
मृत्यु - 35,000
ठीक- 25,69,771

Raksha Bandhan 2021: जानिए क्या है भाई-बहन के पवन पर्व ‘रक्षाबंधन’ में राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, इतिहास, मंत्र और इस दिन क्या ना करें?

धर्म डेक्स। आज है राखी, ज्ञात हो कि सावन की पूर्णिमा के दिन भाई-बहन के प्रेम का त्योहार ‘रक्षाबंधन’ मनाया जाता है। आज भद्रा नहीं है और न ही किसी प्रकार का कोई ग्रहण है, भद्रा सुबह सवा छ बजे ही खत्म हो गया है, इसलिए इस वर्ष का ‘रक्षाबंधन’ शुभ संयोग वाला है और आज पूरे दिन आप इस पर्व का आनंद ले सकते हैं।

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त :

  • प्रातः 6:15 बजे के बाद से सुबह 7:51 तक
  • दोपहर 12:00 बजे से 14:45 तक
  • शाम 6 :31 बजे से 7:59 बजे तक

राहु काल का योग :

खैर त्योहार पर भद्रा काल तो नहीं है लेकिन राहु काल का योग है और इस दौरान कोई भी काम नहीं करना चाहिए। इस बार राहुकाल शाम पांच बजकर 16 मिनट से 6 बजे तक है इसलिए इस दौरान कोई भी बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षासूत्र ना बांधे।

राखी सावन का आखिरी दिन होता है :

ज्ञात हो कि राखी सावन का आखिरी दिन होता है और इस दिन के बाद से भाद्र माह की शुरुआत हो जाती है। वैसे तो ये पर्व भाई-बहनों के प्रेम का मानक है लेकिन राखी के दिन हमारे देश में ब्राह्मणों, गुरुओं, नेता और प्रतिष्ठित व्यक्ति को भी राखी बांधी जाती है। देश में कहीं जगह वृक्ष को और भगवान को भी राखी बांधने की परंपरा है। इस दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पुरुष भाईचारे के लिये एक दूसरे को भगवा रंग की राखी बांधते हैं तो वहीं राजस्थान और हरियाणा में भाभीयों को भी राखी बांधी जाती है।

रक्षा सूत्र का अभियान :

राखी के दिन ही हिमानी शिवलिंग आकार ग्रहण करते हैं और इसी वजह से इस दिन ही विश्वप्रसिद्ध अमरनाथ यात्रा भी पूरी होती है। राखी का त्योहार पड़ोसी देश नेपाल में भी मनाया जाता है। आप में से बहुत कम लोग जानते होंगे कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भी राखी के पर्व का जिक्र है।गुरुदेव रविंद्र नाथ टैगोर ने जगजागरण के रक्षा सूत्र का अभियान चलाया था।

वामनावतार ने भी राजा बलि के रक्षासूत्र बांधा था :

तो वहीं कुछ पौराणिक कथाओं में ‘रक्षासूत्र’ का जिक्र है, जिसके अनुसार भगवान विष्णु के वामनावतार ने राजा बलि के ‘रक्षासूत्र’ बांधा था और उसके बाद ही उन्हें पाताल जाने का आदेश दिया था।

राखी बांधते समय करें इस मंत्र का उच्चारण :

ओम यदाबध्नन्दाक्षायणा हिरण्यं, शतानीकाय सुमनस्यमाना:। तन्मSआबध्नामि शतशारदाय, आयुष्मांजरदृष्टिर्यथासम्।।कहा जाता है कि भगवान विष्णु के वामनावतार ने इसी मंत्र के साथ राजा बलि को रक्षासूत्र बांधा था।

प्रेम और विश्वास का प्रतीक है रक्षाबंधन :

 रक्षाबंधन है प्रतीक है प्रेम का, वचन का, किसी पर अटूट विश्वास का, किसी पर सबकुछ लुटा देने का। ये केवल धागा नहीं है बल्कि किसी की उम्मीद है जो लोग किसी की कलाई पर बांधते हैं।

भाई-बहन इस दिन ना करें ये काम :

  • राहुकाल में राखी ना बांधे।
  • रक्षाबंधन के दिन काले वस्त्र ना धारण करें।
  • राखी बांधते वक्त भाई का सिर ढंका हो।
  • राखी बांधते वक्त भाई का मुख दक्षिण की ओर ना हो।
  • राखी बांधते वक्त भाई का मुख नार्थ या ईस्ट में होना चाहिए।
  • तिलक करते वक्त साबूत चावल का प्रयोग करें और ना कि टूटे।
  • शीशे का कोई भी उपहार भाई-बहन एक दूसरे को ना दें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.