विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

चीन के साथ भारत का रिश्ता हमारे लिए चिंता का विषय : विदेश मंत्री जयशंकर

नई दिल्ली। भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सिंगापुर में ‘स्टार्ट अप एंड इनोवेशन एग्जीबिशन’ के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने सिंगापुर और भारत के रिश्ते को रेखांकित किया और कहा कि हम तब साथ आए थे, जब दुनिया बदल रही थी और भारत भी। सिंगापुर में ‘स्टार्ट अप एंड इनोवेशन एग्जीबिशन’ के उद्घाटन सत्र में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि जब हम (भारत और सिंगापुर) अपने संबंधों के समकालीन दौर में एक साथ आए थे, यह वह समय था जब दुनिया बदल रही थी और भारत बदल रहा था। दो बदलावों का एक दूसरे के साथ कुछ लेना-देना था।

उन्होंने आगे कहा कि भारत में उस समय भुगतान का संकट था और आर्थिक सुधारों पर काम कर रहा था। उस परिस्थिति में भारत ने सिंगापुर का रुख किया और सिंगापुर ने प्रतिक्रिया दी। सिंगापुर तभी से भारत की वृद्धि में एक महत्वपूर्ण भागीदार बना हुआ है।

विदेशमंत्री डॉ एस. जयशंकर ने सिंगापुर में कहा, “हमारे बीच बहुत मज़बूत रक्षा संबंध हैं। हमने हाल ही में अबाधित नौसैनिक अभ्यासों के 25 वर्ष पूरे किए हैं, जो किसी भी देश के साथ भारत के सबसे लम्बे अभ्यास हैं। सिंगापुर राजनैतिक, रणनीतिक तथा आर्थिक वाणिज्यिक क्षेत्रों में भी भारत की नीतियों का केंद्र बिंदु बन गया है। जो हमने द्विपक्षीय रिश्ते के रूप में शुरू किया था, वह आज कहीं ज़्यादा हो चुका है।”

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने आगे कहा कि चीन के साथ भारत का रिश्ता, भारत के लिए चिंता का विषय है क्योंकि हम चीन के साथ एक बड़ा ट्रेड-डेफिसिट चलाते हैं जो हमें लगता है कि निष्पक्ष और निर्बाध बाजार का नतीजा है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.