विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

ये है ‘दुनिया की सबसे साफ नदी’, भारत में ही है मौजूद, क्या इसके बारे में जानते हैं आप?

नई दिल्ली। भारत में नदियों के प्रदूषित होने को लेकर तो अक्सर चर्चा होती रहती है। अभी कुछ दिन पहले ही दिल्ली की यमुना नदी में प्रदूषण के विकराल रूप की तस्वीरें पूरी दुनिया में चिंता का कारण बनीं। गंगा में प्रदूषण का स्तर तो इस कदर बढ़ा कि सरकार को नमामि गंगे परियोजना तक लॉन्च करनी पड़ी। लेकिन आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि दुनिया की सबसे साफ सुथरी नदी भी भारत में है। इस नदी की एक तस्वीर केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय ने शेयर की है जो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

देश के उत्तर पूर्वी प्रदेश मेघालय में स्थित इस नदी में बहती एक नाव की अद्भुत तस्वीर जल शक्ति मंत्रालय ने शेयर की है। इस नदी का पानी इतना साफ है कि नाव के साथ नदी की तलहटी में मौजूद पत्थर और हरियाली साफ नजर आ रही है। इतना ही नहीं नदी की तलहटी में नाव की परछाई तक बिल्कुल साफ नजर आ रही है। एक बार देखने पर तो ऐसा लगता है कि जैसे ये नाव पानी में तैरने के बजाय हवा में उड़ रही है।

जल शक्ति मंत्रालय ने अपने ट्वीट में ये बताया है कि ये तस्वीर मेघालय की उमंगोट नदी की है। इसके साथ ही मंत्रालय ने इस नदी को साफ रखने के लिए राज्य के लोगों का शुक्रिया भी अदा किया है।

मंत्रालय ने लिखा है “दुनिया की सबसे साफ नदी में से एक। ये भारत में है। ये मेघालय राज्य में शिलांग से 100 किलोमीटर दूर उमंगोट नदी है। पानी इतना साफ और पारदर्शी है कि ऐसा लगता है जैसे नाव हवा में हो। काश हमारी सभी नदियां ऐसे ही साफ हों। मेघालय के लोगों को सलाम।

जहां कुछ लोग छवि को देखकर दंग रह गए, वहीं कई लोगों ने कहा कि अब जब बड़ी संख्या में लोगों को उमंगोट नदी के बारे में पता चल गया है, तो वे इसे भी प्रदूषित करने के लिए दौड़ पड़े।

नदी की तस्वीर को देखकर सोशल मीडिया पर दंग रह गए हैं और जमकर इसकी तारीफ कर रहे हैं। वहीं कुछ लोग तो तस्वीर शेयर करने के लिए भी जल शक्ति मंत्रालय के ऊपर नाराजगी जताते हुए कह रहे हैं कि अब इसक पता चल जाने के बाद लोग यहां के लिए दौड़ पड़ेंगे और इसे भी बाकी नदियों की तरह प्रदूषित कर देंगे। एक यूजर ने लिखा “पिक्चर दिखाया क्यूं भाई, अब सब जाके गंदा करेगा।”

नदी के साफ होने के पीछे यूजर अपने-अपने तर्क दे रहे हैं। एक यूजर ने लिखा कि यह इसलिए साफ है क्योंकि यहां पर जनसंख्या घनत्व कम है और लोगों के लिए पहाड़ों पर पहुंच आसान नहीं है। एक अन्य यूजर ने लिख दिया कि अरुणाचल प्रदेश की सभी नदियां ऐसी हाफ नदी हो सकती है। उन्हें लगता है कि ये फोटो बनाई गई है। एक ने तो लिख भी दिया कि “मुझे लगता है कि ये फोटोशॉप्ड है। मुझे खुशी होगी अगर मैं गलत साबित होऊं।”

वहीं कुछ लोग दिल्ली के लोगों को मेघालय के निवासियों से सीखने की सलाह दे रहे हैं। एक यूजर ने लिखा दिल्ली वालों को सीखना चाहिए जिन्होंने दिल्ली को सबसे प्रदूषित शहर और यमुना को सबसे अधिक प्रदूषित नदी में से एक बना दिया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.