विश्व
पुष्टि - 155,827,941
मृत्यु - 3,255,399
ठीक- 134,015,119
भारत
पुष्टि - 21,070,852
मृत्यु - 230,151
ठीक- 17,269,076
रूस
पुष्टि - 4,847,489
मृत्यु - 111,895
ठीक- 4,464,550
फ्रांस
पुष्टि - 5,706,378
मृत्यु - 105,631
ठीक- 4,729,174
ब्राज़िल
पुष्टि - 14,936,464
मृत्यु - 414,645
ठीक- 13,529,572
अमेरिका
पुष्टि - 33,321,244
मृत्यु - 593,148
ठीक- 26,035,314

किसान आंदोलन : 26 जनवरी ‘किसान’ दंगे में 299 पुलिसकर्मी घायल हुए, करोड़ों की संपत्ति को पहुँचा नुकसान, RTI में खुलासा

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का विरोध प्रदर्शन अभी भी जारी है। इस साल 26 जनवरी को हजारों किसान ट्रैक्टर मार्च के दौरान सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर पुलिस की बैरिकेडिंग तोड़कर दिल्ली की सीमा में दाखिल हो गए थे।

उन्होंने न केवल सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुँचाया, बल्कि लाल किले पर खालिस्तानी झंडा भी फहराया। ये भारत के लिए काला दिन था। इस दौरान निहंग हाथों में खुली तलवारें लिए हुए दिखे थे। वहीं कथित किसानों ने पथराव कर कई दर्जन पुलिसकर्मियों को भी घायल कर दिया था।

गणतंत्र दिवस 2021 के दौरान हुए दंगों के बाद लाल किले पर मौजूद दीप सिद्धू सहित कई प्रदर्शनकारियों और किसान नेताओं को गिरफ्तार किया गया था। किसान नेता राकेश टिकैत और योगेंद्र यादव पर हत्या का प्रयास जैसी गंभीर धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए थे।

योगेंद्र यादव पर आउटर दिल्ली में 307 के तहत मामला दर्ज किया गया था। अब, RTI कार्यकर्ता विवेक पांडे द्वारा दायर की गई RTI के जवाब में दी गई जानकारी में खुलासा हुआ है कि उन दंगों के बाद कितना नुकसान हुआ था।

पांडे ने दिल्ली पुलिस के साथ एक RTI (सूचना का अधिकार) दायर की, ताकि दिल्ली के सभी पुलिस स्टेशनों से दंगों में हुए नुकसान के बारे में पता लगाया जा सके। उन्होंने इसमें निम्न में दिए गए सवाल पूछे।

  • इस रैली में जलाए गए वाहनों की कुल संख्या का विवरण
  • रैली में संपत्ति को होने वाले नुकसान का विवरण
  • रैली के दौरान कुल कितनी संपत्ति को नुकसान पहुँचा
  • किसानों और पुलिस के बीच झड़प में घायल होने वाले पुलिसकर्मियों की संख्या
  • किसानों और पुलिस के बीच झड़प में घायल होने वाले किसानों की संख्या

उन्हें एक को छोड़कर सभी पुलिस स्टेशनों से जवाब मिला। पांडे ने ऑपइंडिया के साथ RTI विवरण साझा किया, और यहाँ वे विवरण हैं जो हमें दंगों के दौरान कथित किसानों को हुए नुकसान के बारे में मिले। उन्हें एक को छोड़कर सभी पुलिस स्टेशनों से जवाब मिला। यहाँ कथित किसानों द्वारा दंगों के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को कितना कितना नुकसान पहुँचाया गया और कितने पुलिसकर्मी घायल हुए सबकी जानकारी दी गई है।

दंगों के दौरान कुल 299 पुलिसकर्मी घायल हुए थे। इनमें से बाहरी जिले में 115, द्वारका में 37, सेंट्रल में 19 और नॉर्थ जिले में 24 लोग घायल हुए थे। आरटीआई के जवाबों में एक बात और सामने आई थी। वह 20 लाइव राउंड के साथ एक इंसास राइफल की मैगजीन थी, जो दंगों के दौरान गायब हो गई थी।

गौरतलब है कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली प्रदर्शन के दौरान आंदोलनकारी किसानों ने लाल किले पर कब्जा कर लिया था और अपना झंडा फहरा दिया था। इसके अलावा उग्र किसानों ने लाल किला समेत कई जगहों पर जमकर तोड़फोड़ की और पुलिस पर भी जानलेवा हमला किया था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.