विश्व
पुष्टि - 221,140,621
मृत्यु - 4,575,780
ठीक- 197,635,720
भारत
पुष्टि - 32,988,673
मृत्यु - 440,567
ठीक- 32,138,092
महाराष्ट्र
पुष्टि - 64,82,117
मृत्यु - 1,37,707
ठीक- 62,88,851
केरल
पुष्टि - 41,81,137
मृत्यु - 21,422
ठीक- 39,09,096
कर्नाटक
पुष्टि - 29,54,047
मृत्यु - 37,401
ठीक- 28,98,874
तमिलनाडु
पुष्टि - 26,21,086
मृत्यु - 35,000
ठीक- 25,69,771

तमिलनाडु के मंत्री केएन नेहरू का विवादित बयान, कहा- बिहारियों के पास नहीं होता ज्यादा दिमाग, बिहारी मजदूरों में बढ़ी असुरक्षा

न्यूज़ डेस्क। तमिलनाडु के स्टालिन सरकार में नगरपालिका प्रशासन मंत्री और DMK नेता केएन नेहरू ने बिहारियों के खिलाफ विवादित बयान दिया है। त्रिची के ‘कलाई अरंगम कन्वेंशन सेंटर’ में आयोजित डीएमके के एक ‘रोजगार कैंप’ में उन्होंने कहा है कि बिहारियों के पास ज्यादा दिमाग नहीं होता है। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि पूर्व केंद्रीय रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव के समय में बिहारियों ने कई नौकरियां छीन लीं जो तमिलनाडु के लोगों को मिलनी चाहिए।

केएन नेहरू ने चौकाने वाले दावा करते हुए कहा, “आप त्रिची पोनमलाई रेलवे वर्कशॉप को ही देख लीजिए, जहां 4000 बिहारी काम कर रहे हैं। इसी तरह पूरे तमिलनाडु में आप रेलवे में गेटकीपर के रूप में बिहारियों को देख सकते हैं।” रेलवे की दुर्दशा के लिए लालू यादव को जिम्मेदार ठहराते हुए केएन नेहरू ने कहा कि रेल मंत्री रहते लालू यादव ने रेलवे में बिहारियों को भर दिया।

केएन नेहरू ने दक्षिण भारतीयों में केरल व तमिलनाडु के युवाओं को सबसे प्रतिभावान बताया। उन्होंने कहा कि तमिलनाडु के युवा बुद्धि के मामले में केरल के युवाओं के बराबर हैं। इसलिए तमिलनाडु के लोगों को केंद्र सरकार की नौकरियों के लिए और मेहनत करनी चाहिए। उन्होंने तमिलनाडु के नागरिकों को भी ये कहते हुए फटकार लगाई कि यहां के लोगों ने केंद्र सरकार की सरकारी नौकरियों को लेने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई और कोशिश नहीं की। तमिलनाडु के लोगों को केंद्रीय फोर्स से लेकर रेलवे और बैंक तक में नौकरी लेनी चाहिए।

गौरतलब है कि प्रशांत किशोर ने पिछले तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में द्रमुक के लिए रणनीति बनाई थी। प्रशांत किशोर भी बिहार से हैं। वहीं तमिलनाडु में भी बड़ी संख्या में बिहार और उत्तर प्रदेश के मजदूर काम करते हैं। केएन नेहरू के इस विवादित बयान से इन मजदूरों के लिए असुरक्षा का माहौल पैदा होने और दो राज्यों के बीच तनाव बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.