विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना, एक महीने में 34 हजार लोगों का इलाज

रायपुर। छत्तीसगढ़ में जन-जन तक स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच और स्वास्थ्य सुविधाओं के सुदृढ़ीकरण के लिए गांधी जयंती 2 अक्टूबर से शुरू मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना के अंतर्गत महीने भर में करीब 34 हजार लोगों को निःशुल्क इलाज मुहैया कराया गया है। स्वास्थ्य विभाग की मोबाइल मेडिकल टीम ने इस दौरान प्रदेश के सभी 13 नगर निगमों में 445 स्लम क्षेत्रों में पहुंचकर लोगों की जांच एवं उपचार कर दवाईयां दी हैं।

उल्लेखनीय है कि नगर निगम वाले प्रदेश के 13 शहरों की कुल एक हजार 567 स्लम क्षेत्रों में लगभग 16 लाख आबादी रहती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव की पहल पर इनके इलाज की सुदृढ़ व्यवस्था के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित अस्पतालों के साथ ही मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना शुरू की गई है। शुरूआत से ही इस सुविधा को लोगों की अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।

योजना के तहत पिछले एक महीने में कोरबा में आठ हजार 601, रायपुर में छह हजार 124, जगदलपुर में तीन हजार 066, भिलाई में दो हजार 528, बीरगांव में दो हजार 222, भिलाई-3-चरोदा में एक हजार 897, धमतरी में एक हजार 676, दुर्ग में एक हजार 674, राजनांदगांव में एक हजार 509, बिलासपुर में एक हजार 402, अंबिकापुर में एक हजार 342, चिरमिरी में एक हजार 035 और रायगढ़ नगर निगम में 897 लोगों का निःशुल्क इलाज किया गया है।

मोबाइल मेडिकल टीमों ने इस दौरान कोरबा नगर निगम में 108, रायपुर में 83, भिलाई में 42, चिरमिरी में 38, भिलाई-3-चरोदा में 36, धमतरी में 28, बीरगांव में 27, दुर्ग में 21, जगदलपुर में 19, अंबिकापुर में 13, बिलासपुर में 11, रायगढ़ में 10 तथा राजनांदगांव में नौ स्लम क्षेत्रों में पहुंचकर लोगों की जांच व उपचार कर निःशुल्क दवाईयां दी हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.