विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

हमारे देश में कुछ लोगों के कान पर अगर ॐ या गाय शब्द पड़ता है तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं।, PM मोदी का विपक्ष पर हमला

मथुरा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को मथुरा के वेटरनरी विश्वविद्यालय में पशु आरोग्य मेले का शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्षी पार्टियां पर तंज कसते हुए कहा कि देश में कुछ लोग ऐसे हैं जो अगर गाय का नाम सुनते हैं तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं।

इसके साथ ही पशुओं में होने वाली अलग-अलग बीमारियों के टीकाकरण कार्यक्रम की भी शुरुआत की। PM मोदी ने देश भर के लिए 40 मोबाइल पशु चिकित्सा वाहनों को झंडी दिखाकर रवाना किया। संबोधन से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां प्रदर्शनी का जायजा लिया और वहां मौजूद अधिकारियों से बात की।

सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल को खत्म करने की मुहिम की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मथुरा में बड़ा ऐलान करते हुए देशवासियों से अपील की है कि वह 2 अक्टूबर तक अपने घरों, दफ्तरों को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त कर लें।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज के कार्यक्रम को प्लास्टिक के कचरे से मुक्ति के लिए शुरू किया गया है, प्लास्टिक से पशुओं, नदियों, झील, तालाब में रहने वाले प्राणियों का नुकसान होता है. ऐसे में हमें सिंगल यूज प्लास्टिक से छुटकारा पाना होगा। पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि 2 अक्टूबर तक सभी लोग अपने घर, दफ्तर, आसपास की जगह को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करें।

सिंगल यूज प्लास्टिक को रिसायकल किया जाएगा, जो रिसायकल नहीं किया जाएगा उनका इस्तेमाल सड़क बनाने में करेंगे। पीएम मोदी ने कहा कि अब आप अपने घर से बाहर जाएं तो सामान लेने के लिए साथ में झोला लेकर जाएं, सरकारी दफ्तरों में अब प्लास्टिक की बोतलों की बजाय मिट्टी के बर्तनों की व्यवस्था हो।

श्री माेदी ने कहा कि प्रकृति, पर्यावण और पशुधन के बिना जितने अधूरे खुद हमारे आराध्य नजर आते हैं उतना ही अधूरापन हमें भारत में भी नजर आएगा। पर्यावण और पशुधन हमेशा से ही भारत के आर्थिक चिंतन का महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.