विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव, ‘आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन’ लॉन्च

न्यूज़ डेस्क। एक स्वस्थ एवं खुशहाल समाज के लिए मेडिकल सुविधाएं का देश के आम लोगों तक पहुंचना बेहद जरूरी है । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश के मेडिकल सेक्टर में ऐतिहासिक सुधार हुए हैं। कोरोना वैक्सीन से लेकर आयुष्मान भारत योजना तक, भारत ने मेडिकल क्षेत्र में अपनी क्षमता का लोहा मनवाया है। सबको टीका मुफ्त टीका के तहत रिकॉर्ड समय में सौ करोड़ से अधिक वैक्सीनेशन का आंकड़ा भारत ने हाल में ही पार किया है।

देश के लोगों तक आधुनिक स्वास्थ्य सुविधाएं उनके ही इलाके में मिलें। मरीजों को इलाज के लिए इधऱ उधर भटकना ना पड़े। इसके लिए जरूरत थी एक ऐसी महत्वाकांक्षी योजना की जिससे देश के मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में बड़ा बदलाव हो सके। साथ ही देश के अस्पतालों और मेडिकल सेंटरों को भविष्य की चुनौतियों के लिए भी तैयार किया जा सके।

आज के दिन देश के लोगों का ये सपना भी पूरा हुआ । पीएम मोदी ने अध्यात्म की नगरी काशी में ‘आयुष्‍मान भारत हेल्‍थ इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर मिशन’ की शुरूआत की है। पीएम मोदी की इस खास योजना से देश के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव होंगे। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा ‘हमारे हेल्थकेयर सिस्टम में दशकों तक जो बड़ी कमी रही, उसने गरीब और मिडिल क्लास में इलाज को लेकर हमेशा एक चिंता पैदा की। ‘आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन’ उसी कमी को दूर करने का एक समाधान है।’

‘आयुष्‍मान भारत हेल्‍थ इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर मिशन’ से कैसे लाखों लोगों को फायदा

  • हेल्थ सेक्टर की इस योजना पर 64,000 करोड़ का खर्च
  • 29,000 हेल्थ और वेलनेस सेंटरों को सहायता मिलेगी
  • CRITICAL CARE HEALTH के क्षेत्र में बड़ा बदलाव आएगा
  • जिला स्तर पर ICU, VENTILATOR, OXYGEN आदि की सुविधा
  • Critical Care Hospital में 37000 बेड्स विकसित किए जाएंगे
  • ब्लॉक स्तर पर 4000 से अधिक पब्लिक हेल्थ यूनिट्स और लैब बनेंगे
  • बीमारियों की निगरानी के लिए आधुनिक सुविधाओं का इंतजाम
  • IT सुविधाओं से लैस Surveillance Network बनेंगे
  • Network से जुड़े लैब्स का देश के हर क्षेत्र में विकास
  • राष्ट्रीय के साथ ब्लॉक, जिला, क्षेत्र के स्तर पर भी विकास
  • Public Health Emergencies के क्षेत्र में भी होगा काम
  • देश में रोगों का फैलाव रोकने पर विशेष जोर होगा
  • 50 अंतरराष्ट्रीय प्रवेश की जगहों पर खास निगरानी
  • इन जगहों होगा सार्वजनिक हेल्थ यूनिट्स का विकास
  • देश में 4 National Institute of virology की स्थापना
  • देश में नए नेशनल डिजीज सेंटर यानि (NCDC) भी बनाए जाएंगे
  • NCDC से रोगों की निगरानी और रोकथाम में मिलेगी मदद

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.