विश्व
पुष्टि - 186,349,589
मृत्यु - 4,026,838
ठीक- 170,490,387
भारत
पुष्टि - 30,752,950
मृत्यु - 405,967
ठीक- 29,888,284
रूस
पुष्टि - 5,707,452
मृत्यु - 140,775
ठीक- 5,143,255
फ्रांस
पुष्टि - 5,799,107
मृत्यु - 111,284
ठीक- 5,641,588
ब्राज़िल
पुष्टि - 18,962,786
मृत्यु - 530,344
ठीक- 17,422,854
अमेरिका
पुष्टि - 34,676,896
मृत्यु - 622,213
ठीक- 29,203,308

PM मोदी का कांग्रेस पर तंज, 3 राज्य हारकर भी नहीं खुली नींद, खुद से ज्यादा कर रहे हमारी चिंता

नई दिल्ली। मॉनसून सत्र का पहला दिन हंगामेदार गुजरने के बाद मंगलवार को पीएम मोदी ने बीजेपी संसदीय दल की बैठक के दौरान कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा और अपने सभी नेताओं से कहा कि वे कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच जमीनी स्तर पर ज्यादा से ज्यादा काम करें। इस दौरान पीएम ने कहा कि कांग्रेस हर जगह खत्म हो रही है लेकिन उसको अपनी नहीं बल्कि बीजेपी की ज्यादा चिंता है।

पीएम मोदी ने कहा, ‘असम, केरल और बंगाल में हार गए, फिर भी कांग्रेस की नींद नहीं खुली। उन्हें अपनी नहीं, हमारी चिंता ज्यादा है।’ पीएम मोदी ने सभी सांसदों से यह भी कहा कि वे कोरोना की तीसरी लहर के लिए तैयार रहें और अपने-अपने क्षेत्रों में निर्बाध टीकाकरण की व्यवस्था सुनिश्चित करें।

पीएम मोदी ने सांसदों से कहा कि वे जनता तक सरकार के कामों को पहुंचाए। उन्होंने कहा, ‘सत्य को बार-बार जनता तक पहुंचाइए। सरकार के काम के बारे में बताइए।’

एक पार्टी नेता ने हमारे सहयोगी हिन्दुस्तान टाइम्स को बताया कि बैठक के दौरान पीएम ने यह भी कहा कि देश में जानबूझकर नकारात्मक माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का व्यवहार दुर्भाग्यपूर्ण है और वह इस बात को पचा नहीं पा रही कि हम इतना अच्छा काम कैसे कर रहे हैं और कैसे देश में वैक्सीन की कमी नहीं हो रही।

गौरतलब है कि आज शाम संसद में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण कोरोना प्रबंधन को लेकर सभी सांसदों को संबोधित करने वाले हैं। इस दौरान पीएम मोदी भी मौजूद रहेंगे।

पीएम मोदी ने बीजेपी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि पहले महामारी के दौरान महामारी से कम, भूख से ज्यादा लोग मरते थे…लेकिन हमने ऐसा नहीं होने दिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.