विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

ISRO को विक्रम लैंडर का पता चला, ऑर्बिटर ने भेजी तस्वीर, संपर्क करने की कोशिश जारी

बंगलुरु। 7 सिंतंबर को भारत तब बड़ी सफलता चूका गया जब चंद्रयान-2 मिशन पूर्ण रूप से सफल होने से लैंडर विक्रम से संपर्क टूट गया। चंद्रयान 2 से संपर्क टूटने के बाद 130 करोड़ लोगों की उम्मीद भी टूट गई थी। प्रधानमंत्री सहित पूरे देश ISRO के साथ खड़ा रहा। हर किसी ने इसरो के प्रयासों की तरीफ की। लेकिन एक दिन बीतने के बाद भी विज्ञानिकों ने अपनी उम्मीद नहीं छोड़ी और फिर एक बार चंद्रयान 2 को लेकर नई उम्मीद जगा दी हैं। जी हां ताजा जानकारी के अनुसार इसरो (ISRO) को चांद पर विक्रम लैंडर की स्थिति का पता चल गया है। ऑर्बिटर ने थर्मल इमेज कैमरा से उसकी तस्वीर ली है।

https://twitter.com/shivraj_Office/status/1170622744188243969?s=20

हालांकि, उससे अभी कोई संचार स्थापित नहीं हो पाया है। ये भी खबर है कि विक्रम लैंडर लैंडिंग वाली तय जगह से 500 मीटर दूर पड़ा है। चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर में लगे ऑप्टिकल हाई रिजोल्यूशन कैमरा (OHRC) ने विक्रम लैंडर की तस्वीर ली है। भविष्य में विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर कितना काम करेंगे, इसका तो डेटा एनालिसिस के बाद ही पता चलेगा।

https://twitter.com/shivraj_Office/status/1170646657530130434?s=20

आपको बता दें कि ISRO प्रमुख के. सिवन ने जानकारी दी कि लैंडर ‘विक्रम’ को चंद्रमा की सतह पर लाने की प्रक्रिया सामान्य देखी गई, लेकिन बाद में लैंडर का संपर्क जमीनी स्टेशन से टूट गया था। उन्होंने बताया कि चंद्रमा से 2.1 किलोमीटर पहले ही लैंडर विक्रम से संपर्क टूट गया था। वैज्ञानिकों के मुताबिक इस बात की संभावनाएं खत्म नहीं हुई हैं कि लैंडर से दोबारा संपर्क स्थापित नहीं हो सकता।

https://twitter.com/Ksivan_official/status/1170646592686149632?s=20

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.