विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

जानें कौन हैं सुनंदा वशिष्ठ ? आखिर क्यों पश्चिमी देशों को दिखाया आईना!

नई दिल्ली। मोदी सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 को समाप्त किए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। ऐसे में वह दुनिया के सामने लगातार प्रॉपोगैंडा फैलाने में लगा है और कुछ लोगों को वैश्विक मंच पर साथ भी मिल रहा है। हालांकि पाकिस्तान का समर्थन करने वाले लोगों को कश्मीर की बेटी ने मुंहतोड़ जवाब दिया।

टॉम लैंटोस मानवाधिकार आयोग द्वारा बुलाई गई बैठक में भारतीय-अमेरिकी स्तंभकार सुनंदा वशिष्ठ ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग रहा है। उन्होंने कहा कि भारत सिर्फ 70 साल पुराना राष्ट्र नहीं है, जिसे आप देखते हैं। भारत 5 हजार साल पुरानी सभ्यता है। भारत के बिना कश्मीर नहीं है। कश्मीर के बिना भारत नहीं है। यह दोनों ओर से है और मैं यह अपनी पूरी आवाज में कहूंगी।

सुनंदा वशिष्ठ ने आगे कहा कि भारत की लोकतांत्रिक विश्वसनीयता बेमिसाल है। वे लोकतांत्रिक ढांचे में सफल रहे हैं, पंजाब और पूर्वोत्तर में उग्रवाद को समाप्त किया है। कश्मीर में उग्रवाद और मानवाधिकार समस्या के खिलाफ भारत को मजबूत बनाने का समय आ गया है। पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने के वाली सुनंदा वशिष्ठ के भाषण की तारीफ चारो तरफ हो रही है।

सुनंदा वशिष्ठ एक कश्मीरी पंडित हैं और उनका दर्द आप सभी ने सुना हुआ है। सुनंदा वशिष्ठ ने 90 के दशक में अपना घर छोड़ दिया था। क्योंकि यह वो समय था जब आतंकवादियों ने वहां रह रहे लोगों को काफी परेशान किया था और सुनंदा के परिवार के साथ भी काफी अत्याचार हुए थे, जिसके चलते उन्हें मजबूरन कश्मीर छोड़ना पड़ा।

सुनवाई के दौरान सुनंदा वशिष्ठ ने कहा कि मेरे पिता कश्मीरी हैं, मेरी मां कश्मीरी हिन्दू हैं और मैं भी एक कश्मीरी हूं। लेकिन उनका घर और उनकी जिंदगी आतंकवाद के कारण बर्बाद हो गई।

सुनंदा वशिष्ठ पत्रकार और भारतीय-अमेरिकी स्तंभकार हैं और उन्होंने भाजपा और PDP ने जब मिलकर जम्मू कश्मीर में सरकार बनाई थी, उस पर भी सुनंदा ने सवाल खड़े किए थे। इस दौरान उन्होंने इसे अप्राकृतिक गठबंधन बताया था और कहा था कि घाटी में जब तक दोनों पार्टियों का गठबंधन रहेगा, संघर्ष और अस्थिरता मौजूद रहेगी।

सुनंदा वशिष्ठ का वक्तव्य सुनकर अभिनेता अनुपम खेर गदगद हो गए। उन्होंने ट्विटर पर सुनंदा का वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि कश्मीर में आतंकवाद का शिकार हुए 4 लाख कश्मीरी हिंदुओं की ओर से बोलने के लिए आपका शुक्रिया। आपने बड़ी गरिमा और सच्चाई के साथ कश्मीरियों की बात रखी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.