विश्व
पुष्टि - 221,140,621
मृत्यु - 4,575,780
ठीक- 197,635,720
भारत
पुष्टि - 32,988,673
मृत्यु - 440,567
ठीक- 32,138,092
महाराष्ट्र
पुष्टि - 64,82,117
मृत्यु - 1,37,707
ठीक- 62,88,851
केरल
पुष्टि - 41,81,137
मृत्यु - 21,422
ठीक- 39,09,096
कर्नाटक
पुष्टि - 29,54,047
मृत्यु - 37,401
ठीक- 28,98,874
तमिलनाडु
पुष्टि - 26,21,086
मृत्यु - 35,000
ठीक- 25,69,771

Vishwakarma Jayanti 2021 : विश्वकर्मा जयंती’ आज, PM-शाह ने दी बधाई, कहा- ‘देवशिल्पी की कृपा देश पर बनी रहे’

नई दिल्ली। आज ‘विश्वकर्मा जयंती’ है। आज के दिन ब्रह्मांड के सबसे बड़े वास्तुकार माने जाने वाले भगवान विश्वकर्मा की पूजा होती है। उनका जीवन सेवा, समर्पण और ज्ञान का प्रतीक है। इस खास मौके पर पीएम मोदी समेत देश के कई गणमान्य लोगों ने देशवासियों को ‘विश्वकर्मा जयंती’ की बधाई दी है।

पीएम मोदी ने ट्वीट किया है कि भगवान विश्वकर्मा जयंती के पावन अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। देशवासियों पर देवशिल्पी की कृपा सदैव बनी रहे और हमारा देश प्रगति और समृद्धि की नित नई ऊंचाइयों को प्राप्त करता रहे।’

तो वहीं गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया है कि ‘समस्त देशवासियों को वास्तु शास्त्र के आदि प्रवर्तक देव शिल्पी भगवान विश्वकर्मा जी की जयंती पर हार्दिक शुभकामनाएं। इस पावन पर्व पर अपने सृजनात्मक कौशल से आधुनिक व आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में अमूल्य योगदान देने वाले देश के सभी परिश्रमी शिल्पियों को नमन करता हूँ।’

तो वहीं रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि ‘भगवान विश्वकर्मा की जयंती पर आप अभी को हार्दिक शुभकामनाएं। इस पावन अवसर पर देश की श्रम शक्ति और शिल्पकारों का मैं अभिनंदन करता हूँ।’

गौरतलब है कि आज के दिन लोग मशीनों की पूजा करते हैं, लोग फैक्ट्रियों में खास पूजा करते हैं और उनसे सुख-शांति की कामना करते हैं। तो वहीं कई जगहों पर लोग औजारों की भी पूजा करते हैं। मालूम हो कि भगवान विश्वकर्मा को सृजनता का प्रतीक माना जाता है, ऐसा माना जाता है कि रावण की सोने की लंका का निर्माण इन्होंने ही किया था तो वहीं भगवान श्रीकृष्ण की ‘द्वारका’ का निर्माण भी इन्होंने ही किया था। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक ये देवताओं और राक्षसों के बीच हुए समुद्र मंथन के दौरान अवतरित हुए थे।

आज का पूरा दिन काफी शुभ है , संक्रान्ति लग चुकी है जो कि कल दोपहर 3:36 बजे तक है, आज राहु काल सुबह 10:30 बजे से दोपहर 12 बजे तक है , बस इसी दौरान पूजा वर्जित है बाकी पूरा दिन शुभ है। आप अपनी श्रद्दा के मुताबिक कभी भी पूजा कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.