विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

‘गाड़ी वाला आया, घर से कचरा निकाल’ गा तो पूरा इंडिया रहा है, ये चर्चित गाना आया कहां से है यहां जानिए

भोपाल। ये गाना सुना तो होगा ही। मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में रहने वाले लोगों ने तो पक्का ही सुना होगा. वहां के कई लोगों की तो सुबह ही इस गाने को सुनकर होती है। बहुतई फेमस है ये गाना इन दो राज्यों में। वैसे तो राजस्थान और कुछ दूसरे राज्यों में भी ये गाना बजता है, लेकिन मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में इसका तगड़ा क्रेज़ है।

‘देख-देख-देख तू यहां वहां न फेंक
देख फैलेगी बीमारी होगा सबका बुरा हाल…
तो का करे भैया?
गाड़ी वाला आया घर से कचरा निकाल,
गाड़ी वाला आया घर से कचरा निकाल…’

ये गाना सुना तो होगा ही। मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में रहने वाले लोगों ने तो पक्का ही सुना होगा। वहां के कई लोगों की तो सुबह ही इस गाने को सुनकर होती है। बहुतई फेमस है ये गाना इन दो राज्यों में, वैसे तो राजस्थान और कुछ दूसरे राज्यों में भी ये गाना बजता है, लेकिन मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में इसका तगड़ा क्रेज़ है।

ये आखिर बजता क्यों है?

सुबह-सुबह नगर निगम की कचरे वाली गाड़ियां मोहल्लों और गलियों में जाती हैं। लोग ये जान सकें, कि कचरा गाड़ी आ गई है, इसलिए ये गाना उसमें बजाया जाता है। स्वच्छ भारत अभियान के तहत कचरा गाड़ियां चलाई जा रही हैं। ये गाना लोगों को सफाई के लिए जागरुक भी करता है।

तो आखिर ये गाना आया कहां से है?

गाना लिखा किसने और ये फेमस कैसे हुआ?

गीतकार हैं श्याम बैरागी। मध्य प्रदेश के मंडला में रहते हैं। पेशे से टीचर हैं। लेकिन गाना लिखते रहते हैं और गाते भी हैं। मंडला नगर पालिका अध्यक्ष के आदेश पर श्याम ने ‘गाड़ी वाला’ गाना लिखा था। कचरा वाली गाड़ी में सुबह-सुबह इसे बजाया जाने लगा। कुछ ही समय में मंडला में ये गाना बहुत फेमस हो गया। फिर राज्य के कुछ दूसरे जिलों की नगर पालिकाओं ने भी इस गाने को उठा लिया। और कचरा गाड़ी में बजाने लगे। इंदौर, जबलपुर, रीवा, सतना जैसे ज़िलों में ये जमकर फेमस हुआ और काफी असरदार भी रहा। फिर छत्तीसगढ़ में भी इसे बजाया जाने लगा। ऐसा करते-करते राजस्थान, झारखंड और उत्तर प्रदेश में भी ये गाना फैल गया। यानी वहां की नगर पालिका की कचरा गाड़ी में भी ये गाना बजने लगा।

नगर पालिका की कचरा गाड़ी सुबह-सुबह मोहल्लों तक जाती है। इसमें ये गाना बजता है।

इस गाने को लेकर श्याम बैरागी ने एक इंटरव्यू में कहा था,

‘देश के प्रधानमंत्री ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी। उन्होंने अपील की थी कि स्वच्छ भारत के लिए जिसकी जो भूमिका हो सकती है, उसे वो निभाना चाहिए। मैं उनकी बातों से बहुत प्रेरित हुआ, फिर मैंने नगर पालिका मंडला के कहने पर ये गाना लिखा। मकसद केवल इतना था कि इस गीत के ज़रिए हम स्वच्छ भारत के लिए जो कुछ कर सकते हैं, हमें करना चाहिए ’।

वहीं कुछ लोगों का कहना है कि वो सुबह से ही इस गाने को सुनने का इंतज़ार करते रहते हैं। ये गाना इतना फेमस हो गया है कि यूट्यूब पर इसके कई सारे वर्ज़न देखने और सुनने को मिल जाते हैं। एक वर्ज़न में लोग बाकायदा डांस कर रहे हैं इस गाने पर।

एक वर्ज़न में तो अक्षय कुमार और सैफ अली खान ने भी डांस किया। ये देख लीजिए, काफी मज़ेदार है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.