विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

मन की बात कार्यक्रम में बोले PM मोदी, देश के हर जिले में बनाए जाएंगे 75 अमृत सरोवर, पढ़िए संबोधन की बड़ी बातें

नई दिल्ली। पीएम नरेन्द्र मोदी आज मन की बात कार्यक्रम के 88वें एपिसोड के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। इस कार्यक्रम की शुरुआत में उन्‍होंने प्रधानमंत्री संग्रहालय का जिक्र किया और कहा कि आज हम आजादी का महोत्‍सव मना रहे हैं। पीएम ने आज लोगों से डाक टिकट से जुड़े देश में मौजूद म्‍यूजियम और रेल म्‍यूजियम के बारे में भी सवाल किया। पीएम मोदी ने कहा कि देश को एक ‘प्रधानमंत्री संग्रहालय’ मिला है, इसे देश की जनता के लिए खोल दिया गया है। यह गर्व की बात है कि हम पीएम के योगदान को याद कर रहे हैं, देश के युवाओं को उनसे जोड़ रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि लोग संग्रहालयों को कई वस्तुएं दान कर रहे हैं, और भारत की सांस्कृतिक विरासत को जोड़ रहे हैं. कोविड महामारी के बीच संग्रहालयों के डिजिटलीकरण पर ध्यान बढ़ गया है। आने वाली छुट्टियों में युवा अपने दोस्तों के साथ संग्रहालय जरूर जाएं।

मन की बात के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि लोगों को ‘कैशलेस डेआउट’ के लिए जाना चाहिए, अब छोटे गांवों और कस्बों में भी लोग यूपीआई का उपयोग कर रहे हैं। इससे दुकानदारों और ग्राहकों दोनों को फायदा हो रहा है। ऑनलाइन भुगतान एक डिजिटल अर्थव्यवस्था विकसित कर रहा है, हर रोज 20,000 करोड़ रुपये का ऑनलाइन लेनदेन हो रहा है।

अब वैज्ञानिक ‘थ्योरी ऑफ एवरीथिंग’ पर चर्चा कर रहे हैं जहां ब्रह्मांड में हर चीज को आत्मसात किया जा सकता है। एक तरफ हमने शून्य का आविष्कार किया और अनंत के विचार की भी खोज की। वेदों और भारतीय गणित में गिनती अरबों ट्रिलियन से आगे जाती है।

हमारे शास्त्रों में वर्णित है कि जल प्रत्येक प्राणी की मूलभूत आवश्यकता है, यह एक महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन है। वाल्मीकि रामायण में जल संरक्षण पर जोर दिया गया था। हड़प्पा सभ्यता के दौरान पानी बचाने के लिए उन्नत इंजीनियरिंग थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.