विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

प्रियंका गांधी के वाट्सएप को भी हैक किया गया – सुरजेवाला

नई दिल्ली। इस्राइली सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिए जासूसी को लेकर अब कांग्रेस ने रविवार को कहा कि कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी का फोन भी इसके जरिए हैक किया गया। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सूरजेवाला ने एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि प्रियंका के पास व्हाट्सएप की ओर से कॉल आया जिसमें उनके फोन की संभवत: जासूसी की बात कही गई। ज्ञात हो कि इससे पहले NCP के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल की भी जासूस की खबर सामने आई थी।

हाल ही में वाटसएप ने खुलासा किया था कि दुनियाभर में उसके करीब 1400 यूजर्स की इजरायली स्पाइवेयर पेगासस के जरिए जासूसी की गई थी। इसमें भारत के भी कई पत्रकार, नेता और एक्टिविस्ट शामिल हैं। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने रविवार को निशाना साधते हुए कहा कि अब लोग कह रहे हैं कि अबकी बार जासूसी सरकार।

लोग भाजपा के लिए एक नया नाम बता रहे हैं- भारतीय जासूसी पार्टीा। प्रियंका गांधी के वाट्सएप को भी निशाने पर लिया गया और उसे हैक किया गया। हमारा मानना है कि पेगासस स्पाइवेयर सिर्फ और सिर्फ सरकार को बेचा जा सकता है, किसी और को नहीं। इस साल हुए लोकसभा चुनाव के दौरान पेगासस स्पाइवेयर से नेताओं, पत्रकारों और एक्टिविस्टों के फोन टेप किए गए और सरकार को यह जानकारी थी। फेसबुक द्वारा बार-बार याद दिलाए जाने के बावजूद सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की।

कांग्रेस को यह जानकारी भी है कि पेगासस ने कौन-कौनसे इंटरनेट, ब्रॉडबैंड नेटवर्क करप्ट किए। जासूसी से सुप्रीम कोर्ट से लेकर संसद और राज्य सरकारों तक कोई भी नहीं बचा। नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर यह नेशनल इंटरनेट बैकबोन पर चलता है जो बीएसएनएल और BSNL चलाती हैं। वहां भी ये पेगासस स्पाइवेयर पाया गया। अगर ऐसा है तो शीर्ष अदालत, संसद, देश की प्रांतीय और देश की सरकार से लेकर कुछ भी बचा नहीं है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.