विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

UNSC सुरक्षा परिषद में कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को खानी पड़ी मुंह की, भारत को मिला रूस और फ्रांस का साथ

नई दिल्ली। UNSC संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को एक बार फिर मुंह की खानी पड़ी है। कश्मीर मुद्दे पर भारत के पक्ष में रूस और फ्रांस जैसे देश मुखरता से खड़े हुए है। कूटनीतिक जानकारों का कहना है कि चीन को छोड़कर ज्यादातर देशों ने भारत के रुख को समझा है। कूटनीतिक जानकारों का कहना है कि पूरे मामले में चीन का रुख अहम है लेकिन वह एक सीमा से आगे बढ़ा तो उसे भी कई मोरचों पर घिरना पड़ सकता हैं।

जानकार मानते हैं कि भारत को चीन से भी सजग रहना होगा। क्योंकि संयुक्त राष्ट्र में चीन अकेला देश है जिसने वास्तविकताओं को दरकिनार कर भारत के रुख का विरोध किया। जानकार पुराने दोस्त रूस के मुखर समर्थन को भी अहम मान रहे हैं। जानकार मानते हैं कि अगर बंद कमरे में अनौपचारिक चर्चा के बाद किसी तरह का प्रस्ताव लाने का प्रयास किया जाता है तो भारत के पक्ष में रूस, फ्रांस जैसे देशों का रुख प्रस्ताव लाने वाले देशों पर उलटा पड़ेगा।

कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीन और पाकिस्तान को मिली शिकस्त के बाद भारत ने सीधे शब्दों में कहा कि आर्टिकल 370 भारत का आंतरिक मामला है और किसी को भी इसमें दखल देने की जरूरत नहीं।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान एक बार फिर पिटा। सुरक्षा परिषद में शुक्रवार को हुई क्लोज डोर (अनौपचारिक) बैठक में पाकिस्तान को केवल चीन का साथ मिला। सूत्रों के मुताबिक, भारत के पक्ष में रूस और फ्रांस जैसे देश मुखरता से खड़े दिखे। भारत ने बयान जारी कर कहा कि कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाना हमारा आंतरिक मामला है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी दूत अकबरुद्दीन ने बैठक के बाद कहा कि कश्मीर पर लिए गए फैसले से बाहरी लोगों को कोई मतलब नहीं। पाकिस्तान जेहाद के नाम पर भारत में हिंसा फैला रहा है। हम अपनी नीति पर हमेशा की तरह कायम हैं। भारत का पक्ष रखते हुए उन्होंने कहा कि भारत-पाक के सभी मसले बातचीत से सुलझाए जाएंगे। हिंसा किसी भी मसले का हल नहीं है। उन्होंने दो टूक कहा कि पाकिस्तान को आतंकवाद फैलाना बंद करना होगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.