विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

जगह-जगह चोरी करने वाले रावण के सौतेले भाई कुबेर कैसे बन धन के देवता, यंहा पढ़े……. ।

इस वर्ष 27 अक्‍टूबर को दिवाली है और इस दिन लक्ष्मी, गणेश के साथ ही धन के देवता कुबेर की भी पूजा की जाती है। भगवान कुबेर वह देवता हैं जिनकी आराधना से भक्‍तों का घर धन धान्‍य से भर जाता है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि कुबेर धन के देवता बनने से पहले एक चोर थे। चोर भी ऐसा वैसा नहीं बल्‍कि चोरी करते हुए वो अच्छे-बुरे, पाप-पुण्य किसी के बारे में नहीं सोचते थे। वो गरीब से लेकर अमीर के घर, मंदिर हर जगह चोरी किया करते थे।

दरअसल कुबेर लंकापति रावण के सौतेले भाई थे। पुराणों के मुताबिक एक बार कुबेर चोरी करने भगवान शिव के मंदिर पहुंच गए। भगवान शिव के उस प्राचीन मंदिर में बहुमूल्य हीरे-जवाहरात, सोने-चांदी का भंडार था। कुबेर ने जैसे ही हीरे-जवाहरात, सोने-चांदी को समेटना चाहा, मंदिर में जल रहा दीया बुझ गया।

दीया बुझते ही शिव मंदिर में घना अंधेरा छा गया। कुबेर ने उस बुझे दिए को जलने की कोशिश की, लेकिन असफल रहे। इसके बाद उन्होंने अपने कपड़े उतार कर उसमें आग लगा दी। इससे मंदिर प्रकाशमय हो गया। कुबेर द्वारा मंदिर में किये गए इस प्रकाश को देख भगवान शिव अत्यंत प्रसन्न हुए। इसके बाद उन्होंने उन्हें अगले जन्म में धन के देवता कुबेर के रूप में जन्म लेने का वरदान देते हुए उन्हें दर्शन दिया।

इसके बाद कुबेर ने चोरी छोड़ दी।अगले जन्म में धन के देवता के रूप में कुबेर प्रसिद्ध हुए। आज कुबेर को धन का रखवाला माना जाता है और उनकी इनकी मूर्ति की स्थापना हमेशा मंदिर के अंदर की बजाय मंदिर के बाहर होती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.