विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

भारत के हाथों पाकिस्तान को फिर एक बार शिकस्त, निजाम की अरबों की संपत्ति आएगी इंडिया में

लंदन। पाकिस्तान को एक बार फिर भारत के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा है। भारत ने पाकिस्तान को लंदन में कानूनी तौर पर धूल चटाई है। भारत-पाकिस्तान और हैदराबाद के निजाम के वंशज के बीच 70 साल पुराने केस में लंदन कोर्ट ने भारत के पक्ष में फैसला सुनाया है। दरअसल, ये केस भारत-पाकिस्तान और हैदराबाद के 7वें निजाम के वंशजों के बीच पिछले 70 सालों से चल रहा था। हैदराबाद के सातवें निजाम ने 1948 में लंदन बैंक में 1 मिलियन पाउंड जमा कराए थे जिसकी वेल्यू इस वक्त करीब 35 मिलियन यूरो है।

ये पैसा 1948 से ही पाकिस्तान के हाई कमिश्नर रहे यूके रोहिमतुल्ला के अकाउंट में फ्रीज हैं। लंदन कोर्ट ने पाकिस्तान के उस दावे को खारिज कर दिया जिसमें उसने कहा था कि हथियारों के बदले निजाम ने उन्हें ये पेमेंट की थी। कोर्ट ने 1948 और उससे पहले के दस्तावेजों की लंबी जांच के बाद पाकिस्तान का दावा खारिज कर दिया। रुपयों में आंका जाए तो करीब तीन अरब रुपए सरकार को लंदन बैंक से मिलेंगे जो हैदराबाद के निजाम उस्मान अली खान ने लंदन के नेटवेस्ट बैंक में जमा करवाए थे।

कहा जाता है कि उनका पाकिस्तान से बेहद लगाव था और वो पाकिस्तान की मदद करना चाहते थे लेकिन उस वक्त के नियम ऐसे थे कि सीधे तौर पर भारत से पाकिस्तान पैसे नहीं भेजे जा सकते थे लिहाजा निजाम ने लंदन स्थित पाकिस्तान के ब्रिटेन में उच्चायुक्त रहे हबीब इब्राहिम रहीमटोला के अकाउंट में 1 मिलियन डॉलर भिजवा दिए। लेकिन वक्त रहते सरकार की इसकी खबर लग गई और पाक उच्चायुक्त ये पैसा निकलवा नहीं सके। बाद में निजाम के वंशजों ने भी इस पैसे पर दावा ठोक दिया। बाद में इस केस में तीन पार्टी बने। पाकिस्तान, भारत और निजाम के वंशज। करीब 70 सालों तक चले केस में कोर्ट ने भारत सरकार के पक्ष में फैसला लिया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.