न्याय दिलाने में अधिवक्ताओं का महत्वपूर्ण योगदान : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि न्याय दिलाने में अधिवक्ताओं का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि अधिवक्ता नागरिकों को उनके अधिकार और कर्त्तव्यों की जानकारी देकर जागरूक करने और विधिक सहायता के माध्यम से गरीबों की सहायता कर उन्हें त्वरित न्याय दिलाने में योगदान दे रहे है। श्री बघेल ने इस आशय के विचार आज शाम रायपुर के जिला न्यायालय परिसर में आयोजित अधिवक्ता संघ के सम्मान समारोह में व्यक्त किए। उन्होंने इस अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिता और खेलों में विजयी अधिवक्ताओं को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। अधिवक्ता संघ द्वारा भी मुख्यमंत्री का स्वागत कर अभिनंदन किया गया।

भूपेश बघेल ने कहा कि राजधानी रायपुर के अधिवक्ता संघ का गौरवशाली इतिहास रहा है। आजादी की लड़ाई में भी अधिवक्ताओं का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इस अवसर पर उन्होंने पंडित रविशंकर शुक्ल, वामनराव लाखे, डॉ. हरिसिंह गौर, ठाकुर प्यारेसिंह, खूबचंद बघेल सहित महत्वपूर्ण योगदान देने वाले अन्य व्यक्तियों का स्मरण करते हुए उनके द्वारा किए गए कार्यों का उल्लेख किया। श्री बघेल ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए सुराजी गांव योजना की विस्तार से जानकारी देते हुए कहा कि राज्य की अर्थव्यवस्था में कृषि और किसान महत्वपूर्ण है। समारोह में 35 वर्ष से अधिक समय तक उल्लेखनीय योगदान देने वाले अधिवक्ताओं को भी सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री रामकुमार तिवारी, न्यायाधीश, विधायक श्री कुलदीप जुनेजा, पूर्व महापौर श्रीमती किरणमयी नायक, अधिवक्ता संघ के पदाधिकारी और बड़ी संख्या में अधिवक्ता उपस्थित थे।

जिला एवं सत्र न्यायाधीश रामकुमार तिवारी ने कहा कि नागरिकों को न्याय प्रदान करने के लिए जिले में महत्वपूर्ण कार्य किए जा रहे है। लोक अदालतों के माध्यम से बड़ी संख्या में प्रकरणों का निराकरण किया गया है। उन्होंने कहा कि जिला सत्र न्यायालय द्वारा अधिवक्ताओं के सहयोग से समय-समय पर जागरूकता अभियान चलाकर नागरिकों को उनके अधिकारों और कर्तव्यों की जानकारी के साथ ही विधिक सहायता के माध्यम से दी जाने वाली सुविधाओं की भी जानकारी दी जा रही है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.