विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

एयर चीफ मार्शल श्री भदौरिया ने संभाला IAF चीफ का पदभार, हमें जो करना है हम करेंगे और इनसे निपटने के लिए तैयार हैं।

नई दिल्ली। भारतीय वायु सेना (IAF) एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने सोमवार को भारतीय वायुसेना प्रमुख के पद का कार्यभार संभाल लिया। वह वायुसेना के 26वें प्रमुख बने हैं। उन्होंने एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ का स्थान लिया जो भारतीय वायु सेना में 41 साल सेवा देने के बाद सेवानिवृत्त हो गए। एयर चीफ मार्शल भदौरिया को जून 1980 में भारतीय वायु सेना की लड़ाकू शाखा में शामिल किया गया और वह कई पदों पर रहे। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र भदौरिया ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए प्रतिष्ठित ‘स्वॉर्ड ऑफ ऑनर’ पुरस्कार भी जीता।

करीब चार दशक की सेवा के दौरान भदौरिया ने जगुआर स्क्वाड्रन और एक प्रमुख वायु सेना स्टेशन का नेतृत्व किया। उन्होंने GPS का इस्तेमाल कर जगुआर विमान से बमबारी करने का तरीका ईजाद किया। यह वर्ष 1999 में ‘ऑपरेशन सफेद सागर’ में जगुआर विमान की बमबारी में भूमिका से खासतौर से जुड़ा है। भदौरिया को 26 तरह के लड़ाकू और परिवहन विमानों को 4,250 घंटों तक उड़ाने का भी अनुभव है। वह वायु सेना के उन चुनिंदा पायलटों में से एक हैं जिन्होंने राफेल विमान उड़ाया है। जुलाई में भारत और फ्रांस की वायु सेनाओं के बीच गरुड़ अभ्यास के दौरान भदौरिया ने राफेल विमान उड़ाया था।

अगले हफ्ते दुनिया का बेहतरीन लड़ाकू विमान राफेल भारतीय बेड़े में शामिल हो जाएगा। भदौरिया नेे कहा कि राफेल का शामिल होना देश और वायुसेना के लिए महत्वपूर्ण है। राफेल की तकनीक हमारे लिए गेम चेंजर होगी। मौजूदा हालत की चुनौतियों से निपटने के लिए वायुसेना पुरी तरह तैयार है। हमें जानकारी दी गई कि सरहद पर पाकिस्तान की तरफ क्या चल रहा है।

उसकी हम चर्चा करते हैं। हम पहले भी तैयार थे और अब बालकोट जैसी एयरस्ट्राइक की जरूरत पडऩे पर वायुसेना ज्यादा तैयार है। पाकिस्तान की तरफ से परमाणु हमले की धमकी पर भदौरिया ने कहा कि हमारी अपनी समझ है। हमें जो करना है हम करेंगे। हम सारे खतरों का विश्लेषण करते हैं और इनसे निपटने के लिए तैयार हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.