विश्व
पुष्टि - 326,836,658
मृत्यु - 5,553,780
ठीक- 266,449,527
भारत
पुष्टि - 37,122,164
मृत्यु - 486,094
ठीक- 35,085,721
महाराष्ट्र
पुष्टि - 71,24,278
मृत्यु - 1,41,756
ठीक- 67,17,125
केरल
पुष्टि - 53,42,953
मृत्यु - 50,568
ठीक- 52,14,862
कर्नाटक
पुष्टि - 31,53,247
मृत्यु - 38,411
ठीक- 29,73,470
तमिलनाडु
पुष्टि - 28,91,959
मृत्यु - 36,956
ठीक- 27,36,986

भ्रष्टाचारी एक के बाद एक जेल जाने कतार में हैं : मुख्तार अब्बास नकवी

प्रयागराज। केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने सोमवार को यहां कहा कि राजग सरकार शुरू से ही भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था की बात करती रही है और भ्रष्टाचारी एक के बाद एक (जेल जाने के लिए) कतार में हैं। पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के तिहाड़ जेल जाने के बारे में उन्होंने कहा, लोग राजनीतिक पूर्वाग्रह की बात करते हैं। PM नरेन्द्र मोदी ने तो कहा नहीं था कि तुम जनधन की लूट करों और हम तुम्हें छूट दे रहे हैं।

मोदी 2 सरकार के 100 दिन पूरे होने पर सरकार की उपलब्धियां गिनाने आए नकवी ने आतंकवाद के मुद्दे पर कहा, पाकिस्तान आतंकवाद की फैक्टरी है जहां आतंकवादियों का उत्पादन होता है जो पूरी दुनिया में इंसानियत और अमन के लिए खतरा हैं। पूरी दुनिया ने यह बात स्वीकार की है। उन्होंने कहा, कभी किसी ने अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने की बात सोची तक नहीं थी। मोदी सरकार ने अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म किया और पाकिस्तान इस मुद्दे पर अलग-थलग पड़ गया। इस मुद्दे पर इस्लामिक देशों ने भी पाकिस्तान का साथ नहीं दिया। मंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी की कूटनीति की सराहना करते हुए कहा कि सऊदी अरब ने अपने सबसे बड़े नागरिक सम्मान से उन्हें (मोदी) सम्मानित किया। इसी तरह, यूएई और बहरीन ने भी सबसे बड़े नागरिक सम्मान से प्रधानमंत्री मोदी को नवाजा।

उन्होंने कहा कि अमेरिका से लेकर अरब और ऑस्ट्रेलिया तक देखें तो भारत ने अपनी विदेश नीति के बल पर पूरी दुनिया में अपना सिक्का जमाया है। आज की तारीख में प्रधानमंत्री मोदी की स्वीकार्यता हर भारतवासी के लिए गर्व का विषय है। सरकार की उपलब्धियों के बारे में नकवी ने कहा, मुद्रा योजना का लाभ पूरे देश के लोगों को हुआ और इसमें 35 प्रतिशत से अधिक अल्पसंख्यक समाज के लोगों को फायदा हुआ। इसी तरह उज्ज्वला योजना में 29 प्रतिशत लाभ अल्पसंख्यक समाज को हुआ। ग्रामीण विद्युतीकरण का लाभ 42 प्रतिशत दलित और अल्पसंख्यक समाज के क्षेत्रों में हुआ। उन्होंने बताया कि अल्पसंख्यक समाज के लिए 3 करोड़ 18 लाख छात्रवृत्ति दी गई। इसका नतीजा यह हुआ कि बीच में पढ़ाई छोड़ने वाली छात्राओं की दर जो 2014 में 72-73 प्रतिशत थी, अब घटकर 42 प्रतिशत रह गई है जिसे पांच सालों में शून्य पर लाया जाएगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.